इन्फ्रास्ट्रक्चर / घोषणाएं
भारतीय रेल पहुँची नई ऊँचाइयों पर: मनाली-लेह को जोड़ता हुआ बनेगा विश्व का सबसे ऊँचा रेल मार्ग

मनाली और लेह के बीच रेल संपर्क 5,360 मीटर की ऊँचाई पर प्रस्तावित है और निर्माण के बाद यह विश्व की सबसे ऊँची रेल लिंक होगी। हिमाचल प्रदेश में पहला ऐसा रेल्वे स्टेशन बनेगा जो एक सुरंग के भीतर होगा।

भारतीय रेल द्वारा यह स्टेशन रणनीतिक महत्ता का होगा जो 3000 फ़ीट की ऊँचाई पर एक सुरंग के भीतर बनेगा और सेना के लिए एक वैकल्पिक मार्ग का काम करेगा। यह स्टेशन लाहौल और स्पीति के प्रशासनिक केंद्र केलांग में बनेगा जो मनाली से 60 किलोमीटर और भारत-तिब्बत सीमा से 120 किलोमीटर दूर होगा। जिस सुरंग के भीतर यह स्चेशन हेगा, वह सुरंग 27 किलोमीटर लंबी होगी।

465 किलोमीटर लंबी रेल लाइन 83,360 करोड़ की लागत पर बनेगी और इसमें लगभग 74 सुरंगें, 124 प्रमुख पुल और 396 लघु पुल होंगे। इस प्रयोजना के लिए प्रथमिक सर्वेक्षण भारतीय रेल द्वारा किया जा तुका है।

सरकार भारत की सीमा पर 14 रणनीतिक लाइन बनाने की योजना कर रही है जिसमें 378 कि.मी. लंबी मिस्सामरी-तेंगा-तवांग लाइन, 249 कि.मी. लंबी उत्तर लखीमपुर-बामे-सिलापथर लाइन और चीन सीमा से लगी हुई 227 कि.मी. लंबी पासीघाट-तेज़ु-रुपाई लिंक सम्मिलित है।

इस लाइन के मूल्य निर्वहन के लिए भारतीय रेल ने केंद्र सरकार से बात की है।