समाचार
फ्रांस में शीघ्र स्वीकार किए जाएँगे यूपीआई और रूपे कार्ड, समझौते पर हुए हस्ताक्षर

फ्रांस में भारत के राजदूत जावेद अशरफ ने गुरुवार (16 जून) को कहा कि भारत के एकीकृत भुगतान इंटरफेस (यूपीआई) और रूपे कार्ड शीघ्र ही फ्रांस में स्वीकार किए जाएँगे।

फ्रांस में भारतीय दूत ने यूरोप के सबसे बड़े स्टार्टअप सम्मेलन ‘वाइवाटेक 2022’ के दौरान यह टिप्पणी की।

एएनआई ने राजदूत अशरफ के हवाले से कहा, “हमने इस प्रक्रिया की शुरुआत यहाँ कर दी है। इसमें एनपीसीआई इंटरनेशनल और फ्रांस के लाइरा नेटवर्क ने समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर कर दिए हैं।”

उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर फ्रांसीसी केंद्रीय बैंक और नियामक के साथ वार्ता की जाएगी।

आगे कहा गया, “हमें सेंट्रल बैंक, नियामक के साथ फ्रांस में कंपनियों के साथ इस पर चर्चा करनी होगी। फ्रांस में डिजिटल भुगतान का बहुत कम उपयोग होता है लेकिन इसे एकीकृत और निर्बाध होने की आवश्यकता है। इसमें दक्षता की कमी है जैसा कि हमारे पास भारत में है।”

अशरफ ने कहा कि भारत डिजिटल प्रौद्योगिकी की दुनिया में अग्रणी है।

उन्होंने कहा, “भारत ने सेमीकंडक्टर की कमी के मुद्दे को एक अवसर के रूप में लिया है। यदि हम वंदे भारत ट्रेन के बारे में बात करते हैं, जो ‘मेक इन इंडिया’ उत्पाद है तो मुझे विश्वास है कि हम 5 से 6 वर्ष के भीतर यूरोप में वंदे भारत ट्रेन देखेंगे।”

यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि भारत को वाइवाटेक 2022 में ‘कंट्री ऑफ द इयर’ घोषित किया गया है।

केंद्रीय संचार मंत्री अश्विनी वैष्णव ने बुधवार (15 जून) को कहा, “यह भारत के लिए वाइवाटेक 2022 में ‘कंट्री ऑफ द ईयर’ के रूप में पहचाना जाने वाला एक बड़ा सम्मान है। यह भारतीय स्टार्ट-अप की मान्यता है। हमने इस रोमांचक यात्रा की शुरुआत की है।”