समाचार
भारत की घरेलू वाहन सुरक्षा रेटिंग प्रणाली भारत एनसीएपी 1 अप्रैल 2023 से शुरू होगी

भारत अगले वर्ष से क्रैश परीक्षण के आधार पर अपना पहला घरेलू वाहन सुरक्षा रेटिंग व्यवस्था प्रस्तुत करने को तैयार है।

सड़क परिवहन मंत्रालय की विज्ञप्ति के अनुसार, आगामी भारत का नया कार मूल्यांकन कार्यक्रम (एनसीएपी) अगले वर्ष 1 अप्रैल से शुरू किया जाएगा।

सड़क परिवहन मंत्रालय ने शनिवार (25 जून) को कहा, “मोटर वाहन उद्योग मानक (एआईएस)-197 के अनुसार, बीएनसीएपी देश में निर्मित या आयात किए गए 3.5 टन से कम सकल वाहन वजन के साथ श्रेणी एम 1 (यात्रियों की गाड़ी के लिए उपयोग किए जाने वाले मोटर वाहन, जिसमें चालक की सीट के अलावा आठ सीटें सम्मिलित हैं) प्रकार के स्वीकृत मोटर वाहनों पर लागू होता है।”

मंत्रालय ने कहा, भारत एनसीएपी रेटिंग उपभोक्ताओं को (ए) वयस्क यात्री संरक्षण (एओपी) (बी) चाइल्ड यात्री संरक्षण (सीओपी) और (सी) सुरक्षा सहायता प्रौद्योगिकियों के क्षेत्रों में वाहन का मूल्यांकन करके दी जाने वाली सुरक्षा के स्तर का संकेत प्रदान करेगी।

इसमें कहा गया कि एआईएस 197 के अनुसार किए गए विभिन्न परीक्षणों के विरुद्ध स्कोरिंग के आधार पर वाहन को एक से पाँच स्टार तक रेटिंग दी जाएगी।

मंत्रालय के अनुसार, कार्यक्रम यात्री कारों की सुरक्षा रेटिंग की अवधारणा पेश करता है और उपभोक्ताओं को सूचित निर्णय लेने का अधिकार देता है।

मंत्रालय ने कहा कि यह देश में ओईएम द्वारा उत्पादित कारों की निर्यात योग्यता को बढ़ावा देगा और इन वाहनों में घरेलू ग्राहकों का विश्वास बढ़ाएगा।

इसके अतिरिक्त, यह कार्यक्रम निर्माताओं को उच्च रेटिंग अर्जित करने के लिए उन्नत सुरक्षा प्रौद्योगिकियाँ प्रदान करने के लिए प्रोत्साहित करेगा।