समाचार
गुजरात में केवड़िया स्टेशन पर स्मारिका दुकान संग कला गलियारा विकसित करेगा रेलवे

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी देखने आने वाले पर्यटक जल्द ही केवड़िया स्टेशन पर गुजरात के समृद्ध सांस्कृतिक इतिहास का अनुभव कर सकेंगे। दरअसल, भारतीय रेलवे केवड़िया रेलवे स्टेशन पर देश और राज्य के विभिन्न कला व शिल्प रूपों को प्रदर्शित करने वाली एक कला दीर्घा के निर्माण की योजना बना रहा है।

रेलवे की केवड़िया स्टेशन पर कला दीर्घा के साथ एक स्मारिका दुकान विकसित करने की भी योजना है। यह परियोजना रेलवे द्वारा एक सार्वजनिक निजी भागीदारी (पीपीपी) पहल के तहत पूरी की जाएगी।

रेल मंत्रालय ने मंगलवार (2 नवंबर) को एक बयान में कहा, “भारतीय रेलवे ने स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के पास एक और पर्यटक आकर्षण जोड़ते हुए पश्चिम रेलवे के वडोदरा डिवीजन ने पीपीपी पहल के तहत केवड़िया रेलवे स्टेशन पर स्मारिका दुकान के साथ कला दीर्घा के विकास के लिए अपनी तरह का पहला अनुबंध किया है।”

मंत्रालय ने कहा, “पीपीपी मॉडल के लाभों पर आकर्षित कला दीर्घा गुजरात और भारत के विभिन्न कला एवं शिल्प रूपों का प्रदर्शन करेगी। साथ ही 24.7 लाख की कमाई व 2.83 करोड़ के संभावित राजस्व के साथ निजी पक्षों द्वारा विकसित और संचालित की जाएगी।”

इसमें कहा गया कि यह अवधारणा न केवल केवड़िया आने वाले लोगों के अनुभव को समृद्ध करेगी बल्कि सामाजिक मोर्चे पर यह नर्मदा जिले के स्थानीय आदिवासी लोगों को उनकी आदिवासी कला को बढ़ावा देने का अवसर देकर रोजगार भी प्रदान करेगी।