समाचार
खजुराहो के लिए रेलवे वंदे भारत ट्रेन आरंभ करने को तैयार, अगस्त से चलने की अपेक्षा

भारतीय रेलवे ने पर्यटन को बढ़ावा देने हेतु मध्य प्रदेश में विश्व धरोहर स्थल खजुराहो के लिए वंदे भारत ट्रेन सेवा शुरू करने का निर्णय लिया।

यूनेस्को द्वारा संरक्षित मंदिरों और स्मारकों के लिए प्रसिद्ध खजुराहो दूर-दूर से पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है। बड़ी संख्या में विदेशी खजुराहो आते हैं और यह स्थान घरेलू पर्यटकों के लिए भी पसंदीदा है।

खजुराहो के लिए सबसे अधिक मांग वाली ट्रेनों में से एक वंदे भारत एक्सप्रेस के संचालन की घोषणा करते हुए रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा कि ट्रेनों के अगस्त से शुरू होने की अपेक्षा है।

हालाँकि, वंदे भारत मार्गों को अंतिम रूप दिया जा रहा है लेकिन माना जा रहा है कि 27 मार्ग मुख्य सेवा के लिए तैयार होने की अपेक्षा है।

अब वंदे भारत के नक्शे में इसको सम्मिलित करने के साथ खजुराहो में वर्ष भर अधिक पर्यटकों के आने की अपेक्षा है। इसके अतिरिक्त, खजुराहो स्टेशन भी यात्रियों की बढ़ती संख्या को पूरा करने हेतु बड़े परिवर्तन को तैयार है।

मंत्री ने कहा कि छतरपुर और खजुराहो में दो बिंदु स्वीकृत किए गए। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि अब 45,000 डाकघरों से रेल टिकट प्राप्त किया जा सकता है।

मंत्री ने महाराजा छत्रसाल कन्वेंशन सेंटर क्षेत्र की विकास परियोजनाओं को देखते हुए दौरे के दौरान बुंदेलखंड क्षेत्र में प्रधानमंत्री ग्राम योजना में किए गए कार्यों की भी समीक्षा की।

वैष्णव ने कहा कि निर्बाध रेल यातायात सुनिश्चित करने हेतु महत्वपूर्ण स्थानों पर शीघ्र सड़क के ऊपर पुलों/सड़कों के नीचे पुलों का निर्माण किया जाएगा।

बुंदेलखंड में एक बड़ी परियोजना शुरू की जानी है। इसके लिए शीघ्र भूमि की पहचान की जानी है। किसान मोर्चा, रेलवे और जिला प्रशासन को संयुक्त रूप से स्थान की पहचान करनी है।