समाचार
भारतीय रेलवे ने पाँच प्रादेशिक सेना रेजिमेंट को भंग करने का निर्णय लिया

भारतीय रेलवे ने न्यू जलपाईगुड़ी-सिलीगुड़ी-न्यूमल-अलीपुरद्वार-रंगिया मार्ग पर परिचालन भूमिकाओं के लिए जमालपुर में रेलवे इंजीनियर रेजिमेंट को बनाए रखते हुए झांसी, कोटा, आद्रा, चंडीगढ़ और सिकंदराबाद में स्थित पाँच रेलवे इंजीनियर प्रादेशिक सेना रेजिमेंट को भंग करने का निर्णय लिया।

जमालपुर, झांसी, कोटा, आद्रा, चंडीगढ़ और सिकंदराबाद में स्थित छह रेलवे इंजीनियर प्रादेशिक सेना रेजिमेंट की मौजूदा कार्यात्मक स्थापना की समीक्षा के लिए तीन कार्यकारी निदेशकों/प्रमुख कार्यकारी निदेशक की एक समिति का गठन किया गया। समिति ने रेजिमेंटों की परिचालन आवश्यकताओं का पुनर्मूल्यांकन किया।

रेलवे के अनुसार, समिति की सिफारिशों के आधार पर और रक्षा मंत्रालय व प्रादेशिक सेना महानिदेशालय (डीजीटीए) की सहमति से रेल मंत्रालय ने पाँच रेलवे इंजीनियर प्रादेशिक सेना रेजिमेंट को भंग करने का निर्णय लिया।

जैसा कि रक्षा मंत्रालय द्वारा प्रस्तावित किया गया कि जमालपुर में रेलवे इंजीनियर रेजिमेंट को न्यू जलपाईगुड़ी-सिलीगुड़ी-न्यूमल-अलीपुरद्वार-रंगिया (361 किमी) मार्ग पर परिचालन भूमिका के लिए रखा गया है, ताकि सिलीगुड़ी गलियारे और आगे रंगिया तक महत्वपूर्ण रेल लिंक को कवर किया जा सके।

3 जून 2022 को रेल मंत्रालय के पत्र के जारी होने की तिथि से नौ माह की अवधि के भीतर क्षेत्रीय सेना महानिदेशालय द्वारा विघटन प्रक्रिया पूरी की जानी है और डीजीटीए द्वारा रेल मंत्रालय और रक्षा मंत्रालय के परामर्श से इसके तौर-तरीकों पर काम किया जाना है।