समाचार
बनारस लोकोमोटिव वर्क्स ने वित्तीय वर्ष-22 में 367 इंजनों का निर्माण कर कीर्तिमान बनाया

रेल मंत्रालय ने शुक्रवार (1 अप्रैल) को जानकारी दी कि बनारस लोकोमोटिव वर्क्स (बीएलडब्ल्यू) ने वित्तीय वर्ष 2021-22 में रिकॉर्ड उत्पादन किया है।

बीएलडब्ल्यू ने वित्त वर्ष 2012 के दौरान अब तक के सबसे अधिक 367 इंजनों का निर्माण किया, जिसमें मोज़ाम्बिक को निर्यात किए गए चार इंजन भी सम्मिलित हैं।

रेल मंत्रालय ने एक विज्ञप्ति में कहा, “बनारस लोकोमोटिव वर्क्स ने वित्तीय वर्ष 2021-22 के दौरान अब तक के सबसे अधिक इंजनों का निर्माण करके नया कीर्तिमान स्थापित करते हुए इतिहास रच दिया है।”

इन 367 इंजनों में 31 डब्ल्यूएपी7 पैसेंजर इंजन, 332 डब्ल्यूएजी9 माल-भाड़ा इंजन और चार इंजन सम्मिलित हैं, जिन्हें मोज़ाम्बिक को निर्यात किया गया था।

मंत्रालय ने कहा, “इसके साथ ही वित्तीय वर्ष 2021-22 में बीएलडब्ल्यू को निर्यातित इंजनों से 60.68 करोड़, 2011 से अब तक कुल 704 करोड़ रुपये और गैर-रेलवे ग्राहकों से 2011 से अब तक 1,837 करोड़ प्राप्त हुए हैं।”

वर्ष 2021-22 में बीएलडब्ल्यू ने निर्यातित इंजन भागों से 6.09 करोड़ का राजस्व अर्जित किया था, जबकि गत वर्ष 2020-21 में यह 1.08 करोड़ था, जो कि गत वर्ष की तुलना में 464 प्रतिशत की वृद्धि दर्शाता है।

मंत्रालय ने कहा कि इसी प्रकार गैर-रेलवे ग्राहकों से इंजन भागों की आपूर्ति से प्राप्त राजस्व गत वर्ष 2020-21 में 8.29 करोड़ की तुलना में 16.4 करोड़ था। यह तुलना करने पर 98.6 प्रतिशत अधिक था।