समाचार
व्यापार घाटा बढ़ने पर भी निर्यात जून-2022 में 16.8% बढ़कर 37.9 अरब डॉलर हुआ

भारत की वस्तुओं का निर्यात जून-2022 में वार्षिक आधार पर 16.8 प्रतिशत बढ़कर 37.94 अरब डॉलर पहुँच गया है, जो जून 2021 में 32.49 अरब डॉलर था। हालाँकि, इस दौरान व्यापार घाटा भी रिकॉर्ड 25.63 अरब डॉलर हो गया है।

न्यूज़-18 की रिपोर्ट के अनुसार, केंद्र सरकार की ओर से जारी प्रारंभिक निर्यात आँकड़ों के मुताबिक जून में देश का आयात 51 प्रतिशत बढ़ गया है। जून-2021 में 42.1 अरब डॉलर की अपेक्षा गत माह देश ने 63.58 अरब डॉलर का आयात किया है।

वहीं, जून-2022 में देश का व्यापार घाटा 25.63 अरब डॉलर हो गया। गत वर्ष जून में व्यापार घाटा 9.61 अरब डॉलर रहा था।

वाणिज्य मंत्रालय ने कहा कि 98.01 प्रतिशत की निर्यात वृद्धि के साथ पेट्रोलियम उत्पाद, 50.66 प्रतिशत की निर्यात वृद्धि के साथ इलेक्ट्रॉनिक सामान और 44.67 प्रतिशत की निर्यात वृद्धि के साथ सभी वस्त्रों के आरएमजी ने जून 2022 के दौरान निर्यात में उच्च वृद्धि का मार्ग प्रशस्त किया।

चालू वित्त वर्ष के पहले तीन माह यानी अप्रैल-जून तिमाही में देश का निर्यात 22.22 प्रतिशत बढ़कर 116.77 अरब डॉलर पर पहुँच गया था। इसी अवधि में आयात 47.31 प्रतिशत बढ़कर 187.02 अरब डॉलर हो गया।

इस तरह वित्त वर्ष 2022-23 की पहली तिमाही में देश का व्यापार घाटा 70.25 अरब डॉलर पर पहुँच गया। एक वर्ष पहले की समान तिमाही में यह 31.42 अरब डॉलर रहा था।

आईसीआरए को अपेक्षा है कि 2022 के शेष में व्यापारिक व्यापार घाटा 20 अरब डॉलर से अधिक रहेगा। हालाँकि, मजबूत सेवाओं के अधिशेष आंशिक रूप से झटके को सहन कर सकते हैं और सोने के बढ़ते आयात से आने वाले महीनों में प्रभावशाली रत्न व आभूषण निर्यात हो सकते हैं।