समाचार
भारतीय मूल की डॉ आरती प्रभाकर जो बाइडन की शीर्ष वैज्ञानिक सलाहकार नामित

भारतीय मूल की अमेरिकी नागरिक डॉ आरती प्रभाकर को राष्ट्रपति जो बाइडन ने अपना शीर्ष वैज्ञानिक सलाहकार नामित किया है। व्हाइट हाउस और भारतीय-अमेरिकी समुदाय ने इसे ऐतिहासिक बताया है।

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार, जो बाइडेन ने मंगलवार को डॉ. प्रभाकर को ऑफिस ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी (ओएसटीपी) के निदेशक के रूप में नामित किया। अमेरिकी सीनेट की पुष्टि के बाद वे पहली महिला, अप्रवासी और अश्वेत होंगी, जो ओएसटीपी का नेतृत्व करेंगी।

इस दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा, “वे बेहद सम्मानित इंजीनियर और व्यावहारिक भौतिक विज्ञानी हैं। हमारी संभावनाओं का विस्तार करने, सबसे मुश्किल चुनौतियों को हल करने और असंभव को संभव बनाने के लिए तथा विज्ञान, प्रौद्योगिकी व नवाचार का लाभ उठाने के लिए वे विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी नीति कार्यालय का नेतृत्व करेंगी।”

डॉ आरती प्रभाकर एरिक लैंडर का स्थान लेंगी। 34 वर्षीय वैज्ञानिक को इससे पूर्व 1993 में तत्कालीन क्लिंटन प्रशासन ने राष्ट्रीय मानक और प्रौद्योगिकी संस्थान (निस्ट) के प्रमुख के रूप में चुना था। फिर ओबामा प्रशासन ने उन्हें डिफेंस एडवांस्ड रिसर्च प्रोजेक्ट्स एजेंसी (डारपा) का प्रमुख बनाया था।

दिल्ली में जन्मीं आरती विज्ञान और प्रौद्योगिकी के लिए राष्ट्रपति की सहायक, विज्ञान व प्रौद्योगिकी के लिए राष्ट्रपति के मुख्य सलाहकार व विज्ञान व प्रौद्योगिकी पर राष्ट्रपति की सलाहकार परिषद् की सह-अध्यक्ष तथा बाइडन मंत्रिमंडल की सदस्य होंगी।

भारतीय मूल की अमेरिकी नागरिक आरती की शुरुआती पढ़ाई टेक्सास में हुई है। 1984 में कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से पीएचडी करने के बाद वे संघीय सरकार के लिए काम करने चली गई थीं।