समाचार
भूटान और चीन के मध्य सीमा विवाद समाधान के लिए हुआ समझौता, भारत ने लिया संज्ञान

भूटान और चीन के मध्य सीमा विवाद को हल करने के लिए वार्ता में तेज़ी लाने हेतु तीन चरणों वाले रोडमैप के संबंध में समझौते पर हस्ताक्षर किए गए, जिस पर भारत ने संज्ञान लिया है।

दि इंडियन एक्सप्रेस के हवाले से विदेश मंत्रालय (एमईए) के आधिकारिक प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा, “हमने आज भूटान और चीन के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर होने पर संज्ञान लिया है।”

उन्होंने कहा, “आप जानते हैं कि भूटान और चीन 1984 से सीमा वार्ता कर रहे हैं। भारत भी इसी तरह चीन के साथ सीमा वार्ता कर रहा है।”

भूटान और चीन के मध्य समझौता ज्ञापन सद्भावना, समझ और समायोजन की भावना से रोडमैप को लागू करने की बात करता है, जो सीमा वार्ता के लिए एक सफल और स्वीकार्य निष्कर्ष लाएगा।

दोनों देश 400 किलोमीटर लंबी सीमा साझा करते हैं और विवाद को समाप्त करने के लिए लगभग 24 दौर की सीमा वार्ता कर चुके हैं।

रिपोर्ट में भूटानी विदेश मंत्रालय के आधिकारिक बयान के हवाला से कहा गया, “समझौते व समायोजन की भावना से हुई यह सीमा वार्ता, सीमा विवाद के निपटान के लिए वर्ष 1988 की मार्गदर्शक सिद्धांतों पर संयुक्त विज्ञप्ति और भूटान-चीन सीमा क्षेत्र में शांति, स्थिरता और यथास्थिति बनाए रखने के लिए वर्ष 1998 के समझौते द्वारा निर्देशित की गई है।”