समाचार
प्रदर्शनी के लिए भगवान् बुद्ध के चार पवित्र कपिलवस्तु अवशेष भारत से मंगोलिया पहुँचे

भगवान् बुद्ध के चार पवित्र कपिलवस्तु अवशेष सोमवार (12 जून) को केंद्रीय कानून और न्याय मंत्री किरण रिजिजू के नेतृत्व में 25 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल के साथ 11 दिवसीय प्रदर्शनी के लिए मंगोलिया पहुँचे। इसकी जानकारी एक आधिकारिक विज्ञप्ति में दी गई।

इससे पूर्व सोमवार शाम पवित्र अवशेष पारंपरिक समारोहों के बाद प्रतिनिधिमंडल के साथ दिल्ली से रवाना हुए। ये अवशेष संस्कृति मंत्रालय के राष्ट्रीय संग्रहालय में रखे गए विशेष अवशेषों में से 22 के हैं।

मंगोलियाई संस्कृति मंत्री नोमिन, भारत-मंगोलिया मैत्री समूह के अध्यक्ष सरंचिमग, खंबा नोमुन खान, मंगोलिया के राष्ट्रपति के सलाहकार और अन्य गणमान्य व्यक्तियों के मध्य बड़ी संख्या में भिक्षुओं द्वारा उलानबटार अंतर-राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर पवित्र अवशेषों को बड़ी श्रद्धा और औपचारिक रूप से प्राप्त किया गया।

इस अवसर पर किरण रिजिजू ने कहा, “भारत से मंगोलिया के अवशेष आने से भारत और मंगोलिया के मध्य ऐतिहासिक संबंध और मजबूत होंगे।”

उन्होंने यह भी कहा, “प्रतिनिधिमंडल के माध्यम से भारत बुद्ध के शांति संदेश को विश्व तक पहुँचा रहा है।”

संस्कृति मंत्रालय ने सोमवार को एक विज्ञप्ति में कहा कि उन्होंने यह भी बताया कि गंदन मठ में मुख्य बुद्ध प्रतिमा 2015 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा मंगोलिया के लोगों को उपहार में दी गई थी और इसे 2018 में स्थापित किया गया।

उन्होंने कहा कि मंगोलिया के लोगों के दिल-ओ-दिमाग में भारत का विशेष स्थान है।

इसके बाद पवित्र अवशेषों का स्वागत गंदन मठ में प्रार्थना और बौद्ध मंत्रोच्चार के मध्य समारोहपूर्वक किया गया।

बड़ी संख्या में मंगोलियाई लोग पवित्र बुद्ध अवशेषों के सत्कार के लिए एकत्र हुए।

मंगलवार (14 जून) से शुरू होने वाले 11 दिवसीय प्रदर्शनी से पहले सुरक्षित रखने के लिए गंदन मठ के बौद्ध भिक्षुओं की उपस्थिति में अवशेष गंदन मठ को सौंपे गए।