समाचार
उप-राष्ट्रपति के अरुणाचल प्रदेश दौरे पर चीन की आपत्ति को भारत ने किया सिरे से खारिज

चीन अब अरुणाचल प्रदेश पर भी अपना अधिकार जमाने की फिराक में है। यही वजह है कि उसने हाल ही में भारत के उप-राष्ट्रपति वेंकैया नायडू के अरुणाचल प्रदेश के दौर को लेकर आपत्ति जताई थी। अब इस पर भारत ने बीजिंग को कड़ा जवाब दिया है।

एबीपी न्यूज़ की रिपोर्ट के अनुसार, विदेश मंत्रालय ने कहा, “अरुणाचल प्रदेश भारत का एक अभिन्न और अविभाज्य अंग है। भारत के मंत्री वहाँ भी नियमित रूप से यात्रा करते हैं जैसे वे देश के अन्य राज्यों में करते हैं। भारतीय मंत्रियों की उन्हीं के राज्य की यात्रा पर चीन की आपत्ति करने की वजह समझ से परे है।”

ग्लोबल टाइम्स के हवाले से चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने कहा था, “भारत द्वारा अवैध रूप से स्थापित तथाकथित अरुणाचल प्रदेश को चीन मान्यता नहीं देता है और भारत के उप-राष्ट्रपति वेंकैया नायडू की हालिया यात्रा का दृढ़ता से विरोध करता है। इस क्षेत्र को चीन जांगनान कहता है।”

बता दें कि इसी सप्ताह उप-राष्ट्रपति दो दिन के अरुणाचल प्रदेश के दौरे पर गए थे। उन्होंने वहाँ की विधानसभा के एक विशेष सत्र को संबोधित किया था। साथ ही वहाँ के लेखकों, शिक्षकों, सामाजिक कार्यकर्ताओं और अन्य प्रमुख हस्तियों से भी भेंट व वार्ता की थी।