समाचार
भारत और इज़रायल की नजरें अंतरिक्ष सहयोग का विस्तार करने पर

भारत और इज़रायल ने जारी सहयोग के अतिरिक्त नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार द्वारा घोषित क्षेत्र में सुधारों की पृष्ठभूमि पर अंतरिक्ष संबंधों के विस्तार को लेकर चर्चा की।

भारत में इज़रायल के राजदूत नाओर गिलोन ने मंगलवार को यहाँ इसरो मुख्यालय में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के अध्यक्ष और अंतरिक्ष विभाग के सचिव एस सोमनाथ से भेंट की।

इसरो ने बयान में कहा, “भारत सरकार द्वारा घोषित कार्यक्रमों के मद्देनजर अंतरिक्ष एजेंसियों, भारत और इज़रायल के मध्य अंतरिक्ष संबंधों के विस्तार को लेकर चर्चा की गई।”

इसरो सहयोग बढ़ाने और एक साथ काम करने के संभावित अवसरों की पहचान करने हेतु इज़रायल अंतरिक्ष एजेंसी (आईएसए) के साथ चर्चा कर रहा है।

गत वर्ष इसरो और आईएसए ने छोटे उपग्रहों के लिए विद्युत प्रणोदन प्रणाली (ईपीएस) में सहयोग और जीईओ-एलईओ (जियोसिंक्रोनस अर्थ ऑर्बिट-लो अर्थ ऑर्बिट) ऑप्टिकल लिंक सहित चल रही गतिविधियों की प्रगति की समीक्षा की थी।

दोनों एजेंसियों ने भविष्य में एक साथ कार्य करने के संभावित अवसरों पर भी चर्चा की। इनमें भारतीय प्रक्षेपण यान में इज़रायली उपग्रहों का प्रक्षेपण और 2022 में एक उपयुक्त कार्यक्रम के माध्यम से भारत की स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगाँठ व भारत-इज़रायल राजनयिक संबंधों के 30 वर्ष का उत्सव मनाना भी सम्मिलित है।