समाचार
पड़ोसी देशों के 3117 अल्पसंख्यंकों को गत 4 वर्षों में नागरिकता दी गई- राज्यसभा में केंद्र

केंद्र सरकार ने बुधवार (22 दिसंबर) को संसद को सूचित किया कि गत चार वर्षों में अफगानिस्तान, पाकिस्तान और बांग्लादेश के हिंदू, सिख, जैन और ईसाई अल्पसंख्यक समूहों के 3,100 से अधिक लोगों को भारतीय नागरिकता प्रदान की गई।

राज्यसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय ने कहा कि केंद्र सरकार ने वर्ष 2018, 2019, 2020 और 2021 के दौरान पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से हिंदू, सिख, जैन और ईसाई अल्पसंख्यक समूहों से 8,200 से अधिक आवेदन प्राप्त किए।

उन्होंने कहा, “वर्ष 2018, 2019, 2020 और 2021 के दौरान पाकिस्तान, बांग्लादेश व अफगानिस्तान के हिंदू, सिख, जैन और ईसाई अल्पसंख्यक समूहों के लोगों को दी गई भारतीय नागरिकता की संख्या 3,117 है।”

मंत्री ने आगे बताया कि शरण चाहने वालों के साथ सभी विदेशी नागरिक विदेशी अधिनियम 1946, विदेशियों का पंजीकरण अधिनियम 1939, पासपोर्ट (भारत में प्रवेश) अधिनियम 1920 और नागरिकता अधिनियम 1955 में निहित प्रावधानों द्वारा शासित होते हैं।

उच्च सदन में एक अलग प्रश्न के उत्तर में मंत्री ने बताया कि गत 5 वर्षों के दौरान 4,177 से अधिक लोगों को भारतीय नागरिकता प्रदान की गई है।

इसके अतिरिक्त, 14 दिसंबर 2021 तक भारतीय नागरिकता के लिए 10,365 आवेदन केंद्र सरकार के पास लंबित हैं।