समाचार
पूर्वी लद्दाख के अग्रिम क्षेत्रों में के9-वज्र स्वचालित तोप हॉवित्जर रेजिमेंट तैनात

चीन के साथ जारी सीमा तनाव के मध्य भारत ने पूर्वी लद्दाख के अग्रिम क्षेत्रों में पहली के9-वज्र स्वचालित तोप हॉवित्जर रेजिमेंट को तैनात कर दिया, जो लगभग 50 किमी की दूरी पर दुश्मन के ठिकानों पर हमला कर सकती है।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, भारतीय सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवाने ने कल पूर्वी लद्दाख में कई अग्रिम क्षेत्रों का दौरा कर देश की अभियानगत तैयारियों की व्यापक समीक्षा की थी। इस दौरान उन्होंने कहा था, “गत छह माह से स्थिति सामान्य है। अपेक्षा है कि अक्टूबर के दूसरे सप्ताह में 13वें दौर की वार्ता में आम सहमति बन जाए।”

सेना प्रमुख ने कहा, “मुझे विश्वास है कि हम चीन के साथ अपने मतभेदों को वार्ता के माध्यम से सुलझा सकते हैं। हालाँकि, हम सभी गतिविधियों पर नियमित नज़र रख रहे हैं। हम बुनियादी ढांचे के साथ सैनिकों के मामले में भी समान विकास कर रहे हैं, जो किसी भी खतरे का मुकाबला करने के लिए आवश्यक हैं। हम किसी भी स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार हैं।”

एमएम नरवाने ने कहा, “चीन ने हमारे पूर्वी कमान तक पूरे पूर्वी लद्दाख और उत्तरी मोर्चे पर काफी संख्या में तैनाती की है। यह हमारे लिए चिंता का विषय है। के-9 वज्र स्वचालित तोपें ऊँचाई वाले क्षेत्रों में भी काम कर सकती हैं। इसके परीक्षण बेहद रहे थे। हमने इस तोप की एक पूरी रेजिमेंट जोड़ ली है।”