समाचार
जम्मू-कश्मीर परिसीमन पर इस्लामिक सहयोग संगठन अनुचित टिप्पणियों से बचे- भारत

भारत ने जम्मू-कश्मीर में परिसीमन अभ्यास पर अनुचित टिप्पणियों को लेकर इस्लामिक सहयोग संगठन (ओआईसी) को फटकार लगाई।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने जम्मू-कश्मीर परिसीमन अभ्यास पर ओआईसी के बयान पर मीडिया के सवालों के जवाब में कहा, “हम इस बात से निराश हैं कि ओआईसी सचिवालय ने एक बार पुनः भारत के आंतरिक मामलों पर अनुचित टिप्पणी की है।”

उन्होंने कहा, “पहले की भांति ही भारत सरकार केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर पर ओआईसी सचिवालय द्वारा किए गए दावों को स्पष्ट रूप से खारिज करती है, जो भारत का अभिन्न और अविभाज्य भाग है।”

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने एक देश, जो कि स्पष्ट रूप से पाकिस्तान के लिए संदर्भित था, के संकेतों पर भारत विरोधी सांप्रदायिक एजेंडे को लेकर ओआईसी पर भी निशाना साधा।

उन्होंने कहा, “ओआईसी को एक देश के संकेत पर भारत के विरुद्ध अपने सांप्रदायिक एजेंडे को चलाने से बचना चाहिए।”

इससे पूर्व, सोमवार (16 मई) को ओआईसी ने एक बयान जारी किया था, जिसमें उसने जम्मू-कश्मीर की चुनावी सीमाओं को पुनः बनाने के भारत के प्रयासों पर गहरी चिंता व्यक्त की थी। साथ ही आरोप लगाया था कि यह कश्मीरी नागरिकों के अधिकारों का उल्लंघन है।

बयान में कहा गया था कि जम्मू-कश्मीर विवाद पर लंबे समय से चली आ रही बहस, सैद्धांतिक स्थिति और इस्लामिक शिखर सम्मेलन व ओआईसी विदेश मंत्रियों की परिषद् के प्रासंगिक निर्णयों के बारे में बोलते हुए महासचिव ने जम्मू-कश्मीर के लोगों के साथ अपनी एकजुटता दोहराई थी।