समाचार
5 वर्षों में समुद्री उत्पाद निर्यात दोगुना कर 1 लाख करोड़ करने का लक्ष्य- पीयूष गोयल

केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने सोमवार (6 जून) को केरल के कोच्चि में कहा, “भारत का लक्ष्य आगामी 5 वर्षों में समुद्री उत्पाद निर्यात को 50,000 करोड़ रुपये के वर्तमान स्तर से दोगुना करके 1 लाख करोड़ रुपये करना है।”

कोच्चि में समुद्री उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण (एमपीईडीए) में संवाददाताओं को संबोधित करते हुए पीयूष गोयल ने कहा, “यह लक्ष्य स्थायी मछली पकड़ने, गुणवत्ता एवं विविधता सुनिश्चित करने, तटीय शिपिंग व जलीय कृषि को बढ़ावा देने और संपूर्ण मत्स्य पालन पारिस्थितिकी तंत्र का समर्थन करके प्राप्त किया जाएगा।”

एमपीईडीए के अध्यक्ष केएन राघवन ने 1 लाख करोड़ रुपये के निर्यात कारोबार को प्राप्त करने हेतु एक रोड मैप प्रस्तुत किया।

उन्होंने कहा, “यूएई और ऑस्ट्रेलिया के साथ मुक्त व्यापार समझौतों को अंतिम रूप दे दिया गया, जबकि यूके व कनाडा के साथ इस तरह के समझौते के लिए वार्ता जारी है।”

मंत्री ने कहा, “यूरोपीय संघ के साथ एफटीए तक पहुँचने के लिए वार्ता 17 जून को ब्रुसेल्स में आरंभ होगी। हमारा प्रयास देश के निर्यातकों के लिए बाज़ार पहुँच और नए अवसर प्रदान करना है। इसके परिणामस्वरूप मछुआरों को बेहतर भविष्य देना है।”

वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय ने एक विज्ञप्ति में कहा कि मंत्री ने एमपीईडीए कार्यालय के कोच्चि से स्थानांतरित करने की संभावना से भी मना किया।

इससे पूर्व, मंत्री ने एमपीईडीए में भारतीय समुद्री खाद्य निर्यातक संघ (एसईएआई) के साथ वार्ता की और इस क्षेत्र के सामने आने वाले विभिन्न मुद्दों, चुनौतियों और समाधानों पर चर्चा की।

उन्होंने केरल, तमिलनाडु, पुडुचेरी और कर्नाटक के मछुआरों से भी भेंट की।

गोयल ने एमपीईडीए में रबर क्षेत्र के हितधारकों के साथ भी चर्चा की। उन्होंने इस क्षेत्र के आगे विकास के लिए सरकार के समर्थन का आश्वासन दिया और सभी हितधारकों से भारत को रबर में आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में काम करने का आह्वान किया।