समाचार
संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद्- रूस के विरुद्ध भारत ने नहीं किया मतदान, हमले की निंदा की

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् में शुक्रवार को यूक्रेन पर रूस के हमले को रोकने व सेना को वापस बुलाने के प्रस्ताव पर मतदान हुआ। भारत ने बहुत समझदारी दिखाते हुए रूस के हमले की निंदा की लेकिन मतदान नहीं किया। इसी तरह चीन और यूएई ने भी मतदान से स्वयं को अलग रखा।

आजतक की रिपोर्ट के अनुसार, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् में यूक्रेन पर हमले के विरुद्ध पेश किए गए प्रस्ताव के समर्थन में 15 में से 11 सदस्य देशों ने मतदान किया। वहीं, रूस ने इस प्रस्ताव के विरुद्ध वीटो का उपयोग किया। यह पहले से ही माना जा रहा था कि रूस वीटो का उपयोग कर सकता है।

सुरक्षा परिषद् में भारत के प्रतिनिधि टीएस तिरुमूर्ति ने कहा, “यूक्रेन में हाल ही में हुए घटनाक्रम से भारत बेहद चिंतित है। हम आग्रह करते हैं कि हिंसा व शत्रुता को तत्काल समाप्त करने के सभी प्रयास किए जाएँ। नागरिकों के जीवन की सुरक्षा के लिए अब तक कोई भी समाधान नहीं निकाला गया है। हम भारतीय समुदाय के कल्याण और सुरक्षा को लेकर भी चिंतित हैं, जिसमें यूक्रेन में भारी संख्या में भारतीय छात्र सम्मिलित हैं।”

उन्होंने आगे कहा, “हमें इस बात से खेद है कि कूटनीति का मार्ग छोड़ दिया गया। हमें उस पर लौटना होगा। इन सभी कारणों से भारत ने इस प्रस्ताव से दूरी बनाने का विकल्प चुना।”

रूस के विरुद्ध प्रस्ताव के समर्थन में वोट करने वाले देशों में अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, अल्बानिया, ब्राज़ील, गैबॉन, घाना, आयरलैंड, केन्या, मैक्सिको और नार्वे हैं।

इस बीच, अमेरिका, यूरोपीय संघ और ब्रिटेन ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के विरुद्ध प्रतिबंधों की घोषणा की है। ब्रिटेन ने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव की संपत्ति को सीज करने का आदेश दिया।