समाचार
जल जीवन मिशन- दो वर्ष में मणिपुर के 2.67 लाख ग्रामीण परिवारों को मिला नल का पानी

केंद्र सरकार ने मणिपुर में जल जीवन मिशन (जेजेएम) के कार्यान्वयन में गति लाने के लिए राज्य को 120 करोड़ रुपये का केंद्रीय अनुदान जारी किया।

जल जीवन मिशन को लागू करने हेतु 2021-22 के लिए मणिपुर को 481 करोड़ रुपये का केंद्रीय कोष आवंटित किया गया। यह निधि 2020-21 के दौरान किए गए निधि आवंटन का लगभग चार गुना है।

मणिपुर ने सितंबर 2022 तक राज्य के हर ग्रामीण घर में नल के पानी की आपूर्ति का प्रावधान करने की योजना बनाई है। अब तक राज्य के 4.51 लाख ग्रामीण परिवारों में से 2.67 लाख (59.2 प्रतिशत) घरों में नल के पानी के कनेक्शन हैं।

2019 में जल जीवन मिशन की घोषणा के बाद से लगभग 2.41 लाख (53.46 प्रतिशत) घरों में नल के पानी की आपूर्ति की गई। राज्य की योजना 2021-22 में 2.26 लाख ग्रामीण घरों में नल के पानी को जोड़ने की है।

जल शक्ति मंत्रालय ने कहा, “केंद्र सरकार यह सुनिश्चित कर रही कि ग्रामीण घरों में पानी की आपूर्ति के प्रावधान के लिए धन की कमी न हो। मणिपुर के ग्रामीण क्षेत्रों में इस विशाल निवेश से आर्थिक गतिविधियों में तेजी आएगी और ग्रामीण अर्थव्यवस्था को बढ़ावा मिलेगा। इससे गाँवों में आय सृजन के अवसर पैदा होंगे।”

वर्तमान में 8.63 करोड़ (45 प्रतिशत) ग्रामीण परिवारों को घरेलू नल के माध्यम से पीने योग्य पानी मिलता है। मंत्रालय के अनुसार, 83 जिलों और 1.27 लाख से अधिक गाँवों के हर घर में वर्तमान में नल का पानी मिल रहा है।