समाचार
डीजीपी दिलबाग सिंह ने कश्मीरी पंडितों की हत्या के मामलों की पुनः जाँच की मांग की

जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) दिलबाग सिंह ने 1990 के दशक में कश्मीरी पंडितों की हत्या से जुड़े मामलों को पुनः खोलने की मांग के मध्य मंगलवार को कहा कि यदि हमारे पास कोई विशेष जाँच का मामला और तथ्य आता है तो हम अवश्य उस पर कार्रवाई करेंगे।

यह पूछे जाने पर कि क्या कश्मीरी पंडितों की हत्या के मामले में पूर्व आतंकवादी कमांडर फारूक अहमद डार उर्फ ​​बिट्टा कराटे के विरुद्ध मामले को आगे बढ़ाया जाएगा, इस पर पुलिस प्रमुख दिलबाग सिंह ने कहा, “आतंकवाद और आतंकवादियों के विरुद्ध सभी मामलों को आगे बढ़ाकर कार्रवाई की जा रही है और आगे भी की जाएगी। आतंकवाद के मामलों को छूटने नहीं दिया जाएगा। उनसे सख्ती से निपटा जाएगा।”

एक संवाददाता द्वारा कश्मीरी पंडितों की हत्या से जुड़े मामलों को पुनः खोलने की मांग के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, “यदि कुछ विशेष है तो हम उस पर जरूर गौर करेंगे।”

1990 के दशक में कश्मीर घाटी से कश्मीरी पंडितों के पलायन पर आधारित फिल्म द कश्मीर फाइल्स की रिलीज के बाद से इन मामलों की जाँच पुनः किए जाने की मांग बढ़ गई है।

वकील और सामाजिक कार्यकर्ता विनीत जिंदल ने राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद को पत्र लिखकर कश्मीरी पंडितों के नरसंहार से संबंधित सभी मामलों को पुनः खोलने और एक विशेष जाँच दल के गठन के लिए निर्देश देने की मांग की है।