समाचार
यूक्रेन को लेकर लोकसभा में बोले एस जयशंकर, “भारत ने केवल शांति का पक्ष चुना है”

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने बुधवार को कहा कि भारत रूस-यूक्रेन संघर्ष के विरुद्ध है। यदि नई दिल्ली ने एक पक्ष चुना है तो वह शांति का पक्ष है और हिंसा को तत्काल समाप्त करने के लिए है।

यूक्रेन की स्थिति पर लोकसभा में चर्चा का जवाब देते हुए विदेश मंत्री ने कहा कि भारत अपने नागरिकों को निकालने वाला पहला देश है और उसने दूसरों के लिए प्रेरणा के रूप में कार्य किया।

उन्होंने कहा कि भारत यूक्रेन और रूस के मध्य उनके राष्ट्रपति स्तर पर वार्ता को प्रोत्साहित करता है और इस बात पर बल देता है कि यदि नई दिल्ली इस मामले में कोई सहायता कर सकती है तो उसे योगदान देने में प्रसन्नता होगी।

उन्होंने कहा कि भारत का रुख संघर्ष को खत्म करने के लिए वार्ता को बढ़ावा देना होगा। यूक्रेन के बुचा शहर में नागरिकों की हत्या के बारे में एस जयशंकर ने कहा कि भारत इन खबरों से बहुत चिंतित है।