समाचार
दुबई एयर शो में भाग लेने के लिए मकतूम हवाई अड्डे पर उतरे भारतीय वायुसेना के तेजस

भारतीय वायुसेना (आईएएफ) के तीन तेजस लड़ाकू विमान 14 से 18 नवंबर तक अल मकतूम हवाई अड्डे पर होने वाले द्विवार्षिक दुबई एयर शो में भाग लेने के लिए संयुक्त अरब अमीरात में उतरे।

तीन फाइनल ऑपरेशनल क्लीयरेंस (एफओसी) तेजस लड़ाकू विमान तमिलनाडु के सुलूर एयर फोर्स स्टेशन पर स्थित आईएएफ के 18 नंबर स्क्वॉड्रन फ्लाइंग बुलेट्स से संबंधित हैं। आईएएफ में हल्के लड़ाकू विमान (एलसीए) के दूसरे स्क्वॉड्रन फ्लाइंग बुलेट्स का गठन मई 2020 में किया गया था।

मूल रूप से अप्रैल 1965 में बनाए गए 18 नंबर स्क्वॉड्रन ने 1971 के युद्ध के दौरान सक्रिय भूमिका निभाई थी। भारतीय वायुसेना से एकमात्र परमवीर चक्र (सर्वोच्च सैन्य अलंकरण) पुरस्कार विजेता फ्लाइंग ऑफिसर निर्मल जीत सिंह सेखों आईएएफ के 18 नंबर स्क्वॉड्रन के थे। गत वर्ष 27 मई को तेजस सेनानियों को सम्मिलित करने के साथ स्क्वॉड्रन को सुलूर में चालू किया गया था।

भारतीय वायुसेना के तेजस सेनानियों ने दुबई से पहले अतीत में मलेशिया में लैंगकॉवी अंतर-राष्ट्रीय समुद्री एवं एयरोस्पेस प्रदर्शनी (2019) और श्रीलंका में कोलंबो एयर शो (2021) में भाग लिया है।

तेजस लड़ाकू विमानों के अलावा सारंग टीम के पाँच उन्नत हल्के हेलीकॉप्टर ध्रुव और सूर्यकिरण टीम के 10 बीएई हॉक 132 भी एयर शो में भाग लेंगे। सी-17 ग्लोबमास्टर 3 और सी-130जे सुपर हरक्यूलिस विमान भी विमान और चालक दल के सदस्यों को सम्मिलित करने के लिए संयुक्त अरब अमीरात में हैं।