समाचार
मधुपाश में फँसा रेलवे कर्मचारी गिरफ्तार, सेना के गुप्त दस्तावेज पाकिस्तान को भेजे थे

एक बड़े विकास में दक्षिणी कमान की सैन्य खुफिया इकाई और राजस्थान पुलिस के खुफिया विभाग ने मधुपाश में फंसकर पाकिस्तान में बैठे अधिकारियों को भारतीय सेना के दस्तावेजों के चित्र भेजने के आरोप में रेलवे डाक सेवा के मल्टी-टास्किंग स्टाफ (एमटीएस) अधिकारी को गिरफ्तार किया।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, कहा जाता है कि भरत बावरी के रूप में पहचाने जाने वाले 27 वर्षीय एमटीएस अधिकारी ने एक पाकिस्तानी जासूसी एजेंसी की महिला एजेंट द्वारा मधुपाश में फँसाए जाने के बाद अपराध किया था। खुफिया महानिदेशक उमेश मिश्रा द्वारा साझा की गई जानकारी के अनुसार, आरोपी को हिरासत में ले लिया गया है।

अधिकारियों द्वारा साझा की गई जानकारी के अनुसार, चार से पाँच माह पूर्व भरत बावरी को फेसबुक मैसेंजर पर उक्त एजेंट का एक संदेश मिला था। उसके बाद दोनों ने वॉयस और वीडियो कॉल के माध्यम से वॉट्सैप पर बात करनी शुरू कर दी। महिला ने अपने गलत नाम का उपयोग किया और कहा कि उसने पोर्ट ब्लेयर में नर्सिंग की पढ़ाई की है और अब एमबीबीएस की तैयारी कर रही है।

इसके बाद जयपुर में एक रिश्तेदार को आर्मी यूनिट में स्थानांतरित करवाने के बहाने महिला ने उससे आर्मी से जुड़े पत्रों के चित्र मंगवाने शुरू कर दिए। फिर पाकिस्तानी एजेंट ने उसे समझाते हुए स्वयं के नकली चित्र भी भेजे कि वह उससे मिलने और उसके साथ रहने के लिए जयपुर आएगी। इस तरह मधुपाश का शिकार हुए भरत बावरी ने भारतीय सेना से जुड़े गोपनीय डाक पत्रों की छवियाँ वॉट्सैप पर भेजनी शुरू कर दी थीं।