समाचार
छह लेन वाला गुरुग्राम-सोहना हाईवे खुला, गुरुग्राम को दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे से जोड़ेगा

हरियाणा में 22 किलोमीटर लंबा गुरुग्राम सोहना राष्ट्रीय राजमार्ग, जिसे छह-लेन अभिगम-नियंत्रित गलियारे के रूप में विकसित किया गया था, सोमवार (11 जुलाई) को यातायात के लिए खोल दिया गया।

2,000 करोड़ रुपये की लागत से शुरू की गई इस परियोजना में सात किलोमीटर का एलिवेटेड खंड भी सम्मिलित है।

स्थानीय यातायात की आवाजाही को सुविधाजनक बनाने के लिए गलियारे के दोनों ओर तीन-लेन सर्विस रोड प्रदान की गई है।

यह खंड महत्वपूर्ण है क्योंकि यह आगामी दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे के माध्यम से दिल्ली और गुरुग्राम को संयोजकता प्रदान करेगा।

मार्च 2018 में भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) ने हाइब्रिड वार्षिकी मॉडल पर इस खंड को विकसित करने के लिए एलओए जारी किया था।

इस परियोजना को लगभग नौ और 13 किमी के दो अलग-अलग खंडों में विभाजित किया गया था, जिसमें चार छोटे पुल, एक फ्लाईओवर और पाँच एफओबी सम्मिलित थे।

गुरुग्राम सोहना राजमार्ग विस्तार एनसीआर-दिल्ली मार्ग पर भीड़ को कम करने के लिए लागू की गई नौ अन्य परियोजनाओं के अतिरिक्त है।

इनमें धौलाकुआं से एयरपोर्ट तक तीन किमी का सिग्नल-फ्री गलियारा, एनएच-1 पर मुकारबा चौक से पानीपत तक 8-लेन दिल्ली-पानीपत हाईवे, 29 किमी 8-लेन एक्सेस-नियंत्रित द्वारका एक्सप्रेसवे, दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे का पैकेज 2, 3 और 4, शामली-सहारनपुर (एनएच-709 बी) के लिए 124 किमी खेकरा-ईपीई जंक्शन को 4 लेन का बनाना, द्वारका/एनएच-08 को वसंत कुंज-नेल्सन मंडेला रोड से जोड़ने के लिए रंगपुरी बाईपास, भारतमाला के तहत दिल्ली के लिए 75 किमी अर्बन एक्सटेंशन रोड (यूईआर-2) तीसरा रिंग रोड और बागपत रोड पर अक्षरधाम एनएच24 जंक्शन से ईपीई जंक्शन तक 31.3 किमी का 6-लेन एक्सेस नियंत्रित कॉरिडोर शामिल हैं।