समाचार
जनवरी माह में ₹1.38 लाख करोड़ का जीएसटी संग्रह, अर्थव्यवस्था में तेज़ी का अनुमान

भारत में जनवरी-2022 में 1.38 लाख करोड़ रुपये का जीएसटी संग्रह हुआ है। गत वर्ष जनवरी के मुकाबले यह आँकड़ा 15 प्रतिशत अधिक है।

विशेष बात है कि यह लगातार चौथा माह है, जब जीएसटी संग्रह 1.30 लाख करोड़ रुपये से अधिक रहा है। केंद्र सरकार ने बजट से पूर्व ही इसके आँकड़े प्रस्तुत कर दिए।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, सीजीएसटी की जनवरी में जीएसटी संग्रह में 24,674 करोड़ रुपये की हिस्सेदारी है। राज्य जीएसटी के तौर पर 32,016 करोड़ रुपये केंद्र सरकार को प्राप्त हुए हैं। वहीं, आईजीएसटी के रूप में कुल 72,030 करोड़ रुपये प्राप्त हुए हैं।

वित्त मंत्री की ओर से एक बयान में कहा गया कि दिसंबर 2021 में देश भर में कुल 6.7 करोड़ ई-वे बिल तैयार किए गए थे। यह आँकड़ा नवंबर माह की अपेक्षा 14 प्रतिशत अधिक है। नवंबर में कुल 5.8 करोड़ ई-वे बिल ही बनाए गए थे।

केंद्र सरकार ने अपेक्षा जताई है कि आने वाले समय में जीएसटी संग्रह में वृद्धि जारी रह सकती है। कोरोना की तीसरी लहर के असर के धीरे-धीरे कम होने के साथ अर्थव्यवस्था की और बेहतरी की अपेक्षाएँ बढ़ रही है। अब नए वर्ष में सरकार 8.5 प्रतिशत की आर्थिक वृद्धि का अनुमान लगा रही है।

विशेष बात यह है कि जीएसटी संग्रह के साथ कई और भी ऐसे संकेत हैं, जो बता रहे हैं कि आने वाली महीनों में अर्थव्यवस्था में तेज़ी आ सकती है।