समाचार
श्वेत उत्पादों के घरेलू विनिर्माण हेतु पीएलआई योजना के अंतर्गत 42 कंपनियों का चयन

ब्लूस्टार, डेक्किन, हैवल्स, ओरिएंट इलेक्ट्रिक और अन्य को श्वेत उत्पादों के लिए उत्पादन आधारित प्रोत्साहन (पीएलआई) योजना के तहत चुना गया है।

केंद्र सरकार ने श्वेत उत्पादों (वातानुकूलक आदि) और एलईडी लाइटों के घरेलू विनिर्माण को बढ़ावा देने के लिए पीएलआई योजना के तहत 4,614 करोड़ रुपये के प्रतिबद्ध निवेश वाले 42 आवेदकों का अस्थायी रूप से चयन किया।

वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय ने बुधवार (3 नवंबर) को कहा कि चयनित आवेदकों में 3,898 करोड़ रुपये के प्रतिबद्ध निवेश के साथ वातानुकूलक निर्माण के लिए 26 और 716 करोड़ रुपये के प्रतिबद्ध निवेश के साथ एलईडी लाइट निर्माण के लिए 16 आवेदक सम्मिलित हैं।

भारत के साथ भूमि सीमा साझा करने वाले देशों से एफडीआई का प्रस्ताव रखने वाले छह आवेदकों को पीएलआई पर विचार करने के लिए संशोधित सरकार की नीति के अनुसार एफडीआई के लिए अनुमोदन प्रस्तुत करने की सलाह दी गई है।

मंत्रालय ने कहा कि चार आवेदकों को जाँच और उसकी सिफारिशों के लिए विशेषज्ञों की समिति (सीओई) के पास भेजा जा रहा है।

7 अप्रैल 2021 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल की ओर से एसी और एलईडी लाइट के घटकों और उप-संयोजनों के निर्माण हेतु श्वेत उत्पादों की पीएलआई योजना के लिए उद्योग एवं औद्योगिक व्यापार संवर्धन विभाग (डीपीआईआईटी) के प्रस्ताव को स्वीकृति दी गई थी।

डीपीआईआईटी श्वेत उत्पाद- वातानुकूलक और एलईडी लाइट्स क्षेत्र के लिए पीएलआई योजना का नोडल विभाग भी है।

यह योजना वित्त वर्ष 2021-22 से वित्त वर्ष 2028-29 तक 7 वर्ष की अवधि में लागू की जानी है और इसमें 6,238 करोड़ रुपये का परिव्यय है। इस योजना को डीपीआईआईटी द्वारा 16 अप्रैल को अधिसूचित किया गया था और इसके दिशा-निर्देश 4 जून को प्रकाशित किए गए थे।