समाचार
कर्नाटक के सरकारी विद्यालय में हुई नमाज़, हिंदू संगठनों व अभिभावकों ने किया प्रदर्शन

कर्नाटक में कोलार जिले के मुलबगल कस्बे के एक सरकारी विद्यालय का प्रशासन कथित तौर पर मुस्लिम विद्यार्थियों को परिसर में शुक्रवार की नमाज़ अदा करने की अनुमति देने के लिए अभिभावकों, पूर्व छात्रों और हिंदू संगठनों के आक्रोश का सामना कर रहा है।

शुक्रवार की नमाज़ की अनुमति देने को लेकर सोमेश्वरपाल्या में बालेचंगप्पा सरकारी कर्नाटक मॉडल सेकेंडरी विद्यालय के अंदर विरोध प्रदर्शन में हिंदू संगठनों ने अन्य छात्रों के माता-पिता और विद्यालय के पूर्व छात्रों का नेतृत्व किया।

सोशल मीडिया पर वायरल हुए वीडियो के अनुसार, मुस्लिम विद्यार्थियों, जिनमें से कुछ ने टोपी पहन रखी थी, ने दोपहर के समय एक कक्षा के अंदर जुमे की नमाज अदा की थी।

शनिवार को विरोध प्रदर्शन करने वाले पूर्व छात्रों में से एक ने मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई, कोलार के सांसद एस मुनिस्वामी और शिक्षा विभाग के अधिकारियों से मामले में हस्तक्षेप की मांग की।

एक अभिभावक ने आरोप लगाया कि विद्यालय प्रशासन की सहमति से ऐसा हर सप्ताह होता था। विद्यालय की एक शिक्षका ने इसका खंडन किया। उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि यह गत शुक्रवार को ही हुआ था, जब वह और अन्य शिक्षक दोपहर के भोजन के दौरान विद्यालय से दूर थे।

उन्होंने कहा, “ब्लॉक शिक्षा अधिकारी का फोन आया था कि सरकारी विद्यालय के परिसर के अंदर जुमे की नमाज़ की अनुमति क्यों दी गई। मैं जब विद्यालय पहुँची तो देखा कि मुस्लिम लड़के नमाज पढ़ रहे हैं।”

शनिवार को विरोध प्रदर्शन को देखते हुए पुलिस मौके पर पहुँची और नाराज माता-पिता, पूर्व छात्रों और कुछ हिंदू कार्यकर्ताओं को उन्होंने शांत किया। सूत्रों ने बताया कि हालाँकि पुलिस में मामले को लेकर कोई शिकायत दर्ज नहीं करवाई गई है।