समाचार
कपड़ा पीएलआई योजना के तहत आवेदन जमा करने की समय सीमा 28 फरवरी तक बढ़ी

कपड़ा मंत्रालय ने पीएलआई योजना के तहत कपड़े के लिए आवेदन जमा करने की समयसीमा 28 फरवरी तक बढ़ा दी है।

एक आधिकारिक विज्ञप्ति में सोमवार (14 फरवरी) को बताया गया कि पहले कपड़े के लिए पीएलआई योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन जमा करने की तिथि 31 जनवरी 2022 तक थी, जिसे 14 फरवरी 2022 तक बढ़ा दिया गया था।

केंद्र सरकार ने गत वर्ष सितंबर में कपड़ा क्षेत्र के लिए 10,683 करोड़ रुपये की पीएलआई योजना को स्वीकृति दी थी। इसमें एमएमएफ (मानव निर्मित फाइबर) और तकनीकी कपड़ा क्षेत्रों की चीजें आती हैं।

वर्तमान पीएलआई योजना से एमएमएफ व तकनीकी कपड़ा क्षेत्रों में मौजूदा कंपनियों द्वारा अतिरिक्त निवेश आकर्षित करने और इस खंड में भारतीय व बहु-राष्ट्रीय कंपनियों द्वारा नए निवेश की शुरुआत करने में सहायता मिलने की अपेक्षा है।

भारत वर्तमान में उच्च कच्चे माल की लागत, उच्च टैरिफ बाधाओं और पड़ोसी देशों से सस्ते आयात के कारण एमएमएफ कपड़ा व्यापार में पिछड़ा हुआ है।

इससे पूर्व, सरकार ने एक आधिकारिक बयान में कहा था कि कपड़े के लिए पीएलआई योजना से 19,000 करोड़ रुपये से अधिक का नया निवेश होगा और संभावित रूप से 3 लाख करोड़ रुपये से अधिक का संचयी कारोबार प्राप्त करने में सहायता मिल सकती है।

सरकार का यह भी अनुमान है कि प्रोत्साहन योजना से कपड़ा क्षेत्र में 7.5 लाख से अधिक नौकरियों और संबद्ध गतिविधियों में कई लाख से अधिक रोजगार के अवसर उत्पन्न करने में सहायता मिलेगी। कपड़ा और परिधान क्षेत्र भी कृषि क्षेत्र के बाद दूसरा सबसे बड़ा रोजगार सृजनकर्ता हैं, जो 10 करोड़ से अधिक प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रोजगार प्रदान करने में सहायता करते हैं।

योजना का उद्देश्य इस क्षेत्र में विशेष रूप से एमएमएफ खंड और ग्रीनफील्ड व ब्राउनफील्ड निवेश के तहत तकनीकी वस्त्रों में निवेश व उत्पादन बढ़ाकर भारत की विनिर्माण क्षमताओं में वृद्धि करना है।