समाचार
उत्तर प्रदेश से माल निर्यात अप्रैल-मई में 152.67% बढ़कर 21,500 करोड़ रुपये हुआ

केंद्र सरकार की ओर से जारी नवीनतम आँकड़ों के अनुसार, इस वर्ष अप्रैल और मई में राज्य का माल निर्यात 152.67 प्रतिशत बढ़कर 21,500.85 करोड़ रुपये हो गया। हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, गत वर्ष अप्रैल से मई 2020 के मध्य राज्य से 8,511.34 करोड़ रुपये का माल निर्यात किया गया था।

राज्य से बड़े निर्यात के रूप में चमड़ा, कपड़ा और काँच की सामग्रियाँ सम्मिलित हैं। साथ ही राज्य सरकार के अनुसार, जूते और खिलौनों का निर्यात गत वर्ष अप्रैल-मई में 147.04 करोड़ रुपये और 26.19 करोड़ रुपये से बढ़कर इस वर्ष क्रमशः 742.47 करोड़ रुपये और 120.83 करोड़ रुपये हो गया। इसी तरह, काँच की बनीं सामग्रियों का निर्यात गत वर्ष की समान अवधि के 39.99 करोड़ रुपये से बढ़कर इस वर्ष 310.77 करोड़ रुपये हो गया।

उत्तर प्रदेश के उत्पादों को दुनिया भर के देशों से मिल रही प्रतिक्रिया से उत्साहित मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली सरकार ने सभी 75 जिलों में विदेशी व्यापार संवर्धन और सुविधा केंद्र स्थापित करने का निर्णय लिया है।

राज्य सरकार का एमएसएमई विभाग भी विभिन्न हब के मध्य बेहतर समन्वय के लिए एक केंद्रीकृत सुविधा केंद्र स्थापित करने की योजना बना रहा है। सरकार ने दावा किया है कि इन केंद्रों से निर्यात का मूल्य कम से कम 400 करोड़ रुपये बढ़ जाएगा और 4,000 लोगों को रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे।

आँकड़ों के अनुसार, गुजरात, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और कर्नाटक के बाद उत्तर प्रदेश देश का छठा प्रमुख निर्यातक राज्य है।