समाचार
जनरल मनोज पांडे ने 29वें थल सेना प्रमुख के रूप में कार्यभार संभाला

वर्तमान जनरल मनोज मुकंद नरवाने के सेवानिवृत्त होने के बाद जनरल मनोज पांडे ने शनिवार को 29वें थल सेनाध्यक्ष का पदभार ग्रहण किया।

जनरल पांडे, जो उप प्रमुख के रूप में कार्यरत थे, कोर ऑफ इंजीनियर्स से बल को संभालने वाले पहले अधिकारी बने।

1 फरवरी को थल सेना के उप-प्रमुख के रूप में कार्यभार संभालने से पूर्व जनरल मनोज पांडे पूर्वी सेना कमान का नेतृत्व कर रहे थे, जिसे सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश क्षेत्रों में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) की रक्षा की ज़िम्मेदारी का काम सौंपा गया था।

उन्होंने ऐसे समय में सेना की कमान संभाली, जब भारत को चीन और पाकिस्तान से लगी सीमाओं सहित असंख्य सुरक्षा चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा था।

सेना प्रमुख के रूप में उन्हें थिएटर कमांड को शुरू करने की सरकार की योजना पर नौसेना और भारतीय वायु सेना के साथ समन्वय करना होगा।

अपने विशिष्ट करियर में जनरल पांडे ने अंडमान और निकोबार कमांड (सिनकेन) के कमांडर-इन-चीफ के रूप में भी काम किया, जो भारत की एकमात्र त्रि-सेवा कमान है।

जनरल पांडे ने सभी तरह के क्षेत्रों में पारंपरिक के साथ आतंकवाद रोधी अभियानों में कई प्रतिष्ठित कमांड और स्टाफ कार्यभार संभाले हैं।

मनोज पांडे जम्मू-कश्मीर में ऑपरेशन पराक्रम के दौरान नियंत्रण रेखा के पास एक इंजीनियर रेजिमेंट की कमान संभाल चुके हैं और उन्हें पश्चिमी लद्दाख के ऊँचाई वाले क्षेत्रों में एक पर्वतीय डिवीजन और पूर्वोत्तर में एक कोर की भी कमान संभालने का अनुभव है।

उनकी शानदार सेवा के लिए उन्हें परम विशिष्ट सेवा पदक, अति विशिष्ट सेवा पदक, विशिष्ट सेवा पदक, थल सेना प्रमुख से प्रशस्ति पत्र आदि से सम्मानित किया जा चुका है।