समाचार
ईडी ने धन शोधन मामले में महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख को गिरफ्तार किया

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने सोमवार देर रात (1 नवंबर) धन शोधन मामले में महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख से 12 घंटे से अधिक समय तक पूछताछ करने के बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया।

महाराष्ट्र के पूर्व मंत्री अपने विरुद्ध दायर धन शोधन मामले में जाँच एजेंसी के समन को रद्द करने की उनकी याचिका को बॉम्बे उच्च न्यायालय द्वारा खारिज किए जाने के तीन दिन बाद दोपहर के करीब अपना बयान दर्ज करने के लिए ईडी के सामने प्रस्तुत हुए थे।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, देशमुख कई माह से ईडी की पूछताछ से बचने का प्रयास कर रहे थे और अपने कानूनी उपायों को समाप्त कर चुके थे।

ईडी ने देशमुख का पता लगाने के लिए गत कुछ माह में कई जगहों पर छापेमारी की थी लेकिन राज्य के पूर्व मंत्री का पता नहीं चल सका था।

सोमवार दोपहर को देशमुख के मुंबई के बलार्ड एस्टेट स्थित ईडी कार्यालय पहुँचने के बाद जाँच अधिकारी ने उनसे पूछताछ शुरू कर दी। एजेंसी के अतिरिक्त निदेशक मामले की निगरानी के लिए शाम को दिल्ली से मुंबई के लिए रवाना हुए।

बता दें कि इससे पूर्व, देशमुख के निजी सचिव संजीव पलांडे और निजी सहायक कुंदन शिंदे को एजेंसी ने देशमुख और उनके बेटे ऋषिकेश को मनी लॉन्ड्रिंग में सहायता करने के आरोप में गिरफ्तार किया था।

ईडी के मुताबिक, देशमुख ने शिंदे के माध्यम से सहायक पुलिस निरीक्षक सचिन वाझे से (अब निलंबित) 4.7 करोड़ रुपये नकद लिए थे। वाझे उस समय मुंबई पुलिस की सीआईयू शाखा का नेतृत्व कर रहा था और उसने देशमुख के लिए अवैध रूप से मुंबई के ऑर्केस्ट्रा बार मालिकों से धन एकत्र किया था।