समाचार
“खाद्य तेलों के आयात हेतु भारत नए बाज़ार ढूंढने पर विचार कर रहा”- निर्मला सीतरमण

खाद्य तेलों के आसमान छूते मूल्यों पर केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, “यूक्रेन और रूस के मध्य युद्ध की वजह से कई मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। खाद्य तेलों के आयात हेतु भारत नए बाज़ारों को ढूंढने पर विचार कर रहा है।”

न्यूज़-18 की रिपोर्ट के अनुसार, निर्मला सीतरमण ने कहा, “सभी जानते हैं कि रूस व यूक्रेन के मध्य युद्ध जारी है। आप जानते हैं कि हम खाद्य तेल का आयात नहीं कर पा रहे हैं। हमें वहाँ से सूरजमुखी का तेल मिल रहा था।”

उन्होंने आगे कहा, “इस युद्ध के कारण उद्योगपतियों के लिए भी निर्यात हेतु उन बाज़ारों में अवसर पैदा हुए हैं, जहाँ यूक्रेन व रूस निर्यात कर रहे थे। उद्योगपतियों को प्रत्येक चुनौती को अवसर में बदलने का मौका देखना चाहिए। केंद्र सरकार उन्हें समर्थन देने के लिए हमेशा तत्पर है।”

बता दें कि इंडोनेशिया और मलेशिया ताड़ के तेल के प्रमुख आपूर्तिकर्ता हैं। भारत इन्हीं से तेल आयात करता है। कच्चा सोयाबीन तेल मुख्यतः अर्जेंटीना व ब्राज़ील से आयात किया जाता है। कच्चा सूरजमुखी तेल यूक्रेन व रूस से आयात होता है।

इंडोनेशिया के खाद्य तेल निर्यात पर रोक के निर्णय और अन्य कारणों से तेल के दाम तेज़ी से बढ़ रहे हैं।