समाचार
दिल्ली व खजुराहो के मध्य पहली सीधी उड़ान को ज्योतिरादित्य सिंधिया ने हरी झंडी दिखाई

क्षेत्रीय हवाई संपर्क को बढ़ावा देने हेतु दिल्ली और खजुराहो के मध्य पहली सीधी उड़ान को शुक्रवार (18 फरवरी) को हरी झंडी दिखाई गई। इसके साथ ही उड़ान-आरसीएस (उड़े देश का आम नागरिक- क्षेत्रीय संयोजकता योजना) के तहत 405 मार्गों का संचालन किया जाएगा।

दिल्ली-खजुराहो-दिल्ली मार्ग को उड़ान 3.0 के तहत स्पाइसजेट एयरलाइन को प्रदान किया गया था। केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने इस नए मार्ग पर पहली उड़ान को हरी झंडी दिखाई।

नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने एक विज्ञप्ति में कहा कि स्पाइसजेट सप्ताह के दो दिन शुक्रवार और रविवार को उड़ानें संचालित करेगा। इस मार्ग पर यह क्यू400, 78-सीटर टर्बो प्रोप विमान तैनात करेगा। स्पाइसजेट उड़ान के तहत 14 गंतव्यों को जोड़ने हेतु प्रतिदिन 65 उड़ानें संचालित करता है।

वर्तमान में स्पाइसजेट मध्य प्रदेश में ग्वालियर और जबलपुर हवाई अड्डों को सेवा देता है। खजुराहो के साथ यह उनका 15वाँ उड़ान गंतव्य होगा।

इस अवसर पर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा, “खजुराहो दुनिया का गौरव है। यह मध्य प्रदेश की सांस्कृतिक, कला कौशल और धार्मिक विविधता का प्रवेश द्वार है। मध्य प्रदेश के अतीत, वर्तमान और भविष्य में इसका महत्वपूर्ण महत्व है।”

उन्होंने आगे कहा, “खजुराहो के अतिरिक्त हमारे पास मध्य प्रदेश में इंदौर, भोपाल, ग्वालियर और जबलपुर के साथ चार हवाई अड्डे हैं। गत 7 माह में मध्य प्रदेश ने प्रति सप्ताह उड़ानों में 40 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई है, जो 18 फरवरी 2022 तक प्रति सप्ताह 759 उड़ानों के बराबर है।”