समाचार
भारतीय नौसेना के एमएच-60 हेलीकॉप्टर एयरक्रू के पहले बैच का यूएस में प्रशिक्षण पूरा

भारतीय नौसेना के एयरक्रू के पहले बैच ने अपने नए अधिग्रहीत एमएच-60 हेलीकॉप्टरों के लिए संयुक्त राज्य में प्रशिक्षण पूरा कर लिया। चालक दल में सम्मिलित पायलट और सेंसर संचालक अमेरिका के नेवल एयर स्टेशन, सैन डिएगो में प्रशिक्षण ले रहे थे।

भारतीय नौसेना ने कहा, “चालक दल ने दिन और रात के डेक लैंडिंग योग्यता सहित 10 माह का गहन प्रशिक्षण लिया। चालक दल भारतीय नौसेना में ‘रोमियो’ को सम्मिलित करने के लिए जिम्मेदार होगा, जो 2022 के मध्य से शुरू होगा।”

नरेंद्र मोदी सरकार ने फरवरी 2020 में तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की यात्रा के दौरान 24 एमएच-60आर हेलीकॉप्टरों के लिए अमेरिका के साथ 2.13 अरब डॉलर का समझौता किया था।

हेलीकॉप्टर अप्रचलित सी किंग एंटी-सबमरीन हेलो की जगह लेंगे।

एमएच-60एस टेलिफ़ोनिक्स एपीएस-153(वी) राडार के साथ आएगा। इसमें अन्य बातों के अतिरिक्त, उच्च-रिजॉल्यूशन इनवर्स सिंथेटिक एपर्चर राडार (आईएसएआर) इमेजिंग विकल्प है। टेलीफोनिक्स का कहना है कि आईएसएआर का उपयोग करते हुए हेलो रात में पता लगाए गए चलते हुए जहाजों के लक्ष्यों को वर्गीकृत कर सकता है, दृश्यता को सीमित कर सकता है और दुश्मन के दृश्य व घातक सीमा के बाहर से संचालित हो सकता है।

एमएच-60आर हेलीकॉप्टर भारतीय नौसेना को एंटी-सबमरीन वारफेयर, एंटी-शिप स्ट्राइक, विशेष समुद्री संचालन के साथ खोज और बचाव कार्यों सहित आक्रामक भूमिका प्रदान करेंगे।

एमएच-60आर भारतीय सशस्त्र बलों में सम्मिलित होने वाला तीसरे प्रकार का यूएस निर्मित हेलीकॉप्टर होगा। भारतीय वायुसेना पहले ही 22 अपाचे अटैक हेलीकॉप्टर और 15 चिनूक हेवी-लिफ्ट हेलो को सम्मिलित कर चुकी है। भारतीय सेना ने छह अपाचे लड़ाकू हेलीकॉप्टरों के लिए भी एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं और यह संख्या भविष्य में और बढ़ने की संभावना है।