समाचार
ओप्पो इंडिया ने 4,389 करोड़ रुपये की सीमा शुल्क चोरी की- राजस्व खुफिया निदेशालय

राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआई) ने चीनी स्मार्टफोन निर्माता ओप्पो की भारत इकाई द्वारा लगभग 4,389 करोड़ रुपये की सीमा शुल्क चोरी का पता लगाया है।

केंद्रीय वित्त मंत्रालय की एक आधिकारिक विज्ञप्ति में बुधवार (13 जुलाई) को बताया गया, “गुआंगडोंग ओप्पो मोबाइल दूरसंचार निगम लिमिटेड, चीन की एक सहायक कंपनी मेसर्स ओप्पो मोबाइल्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड से संबंधित एक जाँच में राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआई) ने लगभग 4,389 करोड़ रुपये की सीमा शुल्क चोरी का पता लगाया है।”

कंपनी पूरे भारत में विनिर्माण, असेंबलिंग, होलसेल ट्रेडिंग, मोबाइल हैंडसेट और एक्सेसरीज के वितरण के कारोबार में है। चीनी कंपनी की भारत इकाई ओप्पो, वनप्लस और रियलमी सहित विभिन्न ब्रांडों के मोबाइल फोन का कारोबार करती है।

मंत्रालय ने बताया, “जाँच में कंपनी के कार्यालय परिसर और उसके प्रमुख प्रबंधन कर्मचारियों के आवासों पर डीआरआई द्वारा तलाशी ली गई। इस दौरान मोबाइल फोन के निर्माण में उपयोग के लिए ओप्पो इंडिया द्वारा आयात की गई कुछ वस्तुओं के विवरण में जानबूझकर गलत घोषणा का संकेत देने वाले सबूत पाए गए।”

अन्य लोगों के अतिरिक्त, कंपनी के वरिष्ठ प्रबंधन कर्मचारियों और घरेलू आपूर्तिकर्ताओं से पूछताछ की गई, जिन्होंने अपने स्वैच्छिक बयानों में आयात के समय सीमा शुल्क अधिकारियों के सामने गलत विवरण प्रस्तुत करना स्वीकार किया।

जाँच में यह भी पता चला कि कंपनी ने मालिकाना तकनीक, ब्रांड और आईपीआर लाइसेंस आदि के उपयोग के बदले चीन में स्थित विभिन्न बहुराष्ट्रीय कंपनियों को रॉयल्टी और लाइसेंस शुल्क के भुगतान के लिए प्रावधान किया था।

मंत्रालय ने कहा कि जाँच पूरी होने के बाद कंपनी को कारण बताओ नोटिस जारी कर 4,389 करोड़ रुपये की सीमा शुल्क की मांग की गई है।

उक्त नोटिस में सीमा शुल्क अधिनियम, 1962 के प्रावधानों के अंतर्गत ओप्पो इंडिया, उसके कर्मचारियों और ओप्पो चीन पर प्रासंगिक दंड का भी प्रस्ताव है।