समाचार
स्पेसएक्स भारत में जल्द स्टारलिंक सैटेलाइट इंटरनेट सेवा शुरू करने हेतु स्वीकृति लेगा

भारत में इलॉन मस्क के नेतृत्व वाली स्पेसएक्स जल्द ही अपनी स्टारलिंक उपग्रह ब्रॉडबैंड सेवाओं को लॉन्च करने के लिए लाइसेंस हेतु सरकार के पास आवेदन करेगी।

स्टारलिंक के नवनियुक्त भारत प्रमुख संजय भार्गव ने शुक्रवार (1 अक्टूबर) को कहा कि सरकारी स्वीकृति एक जटिल प्रक्रिया है। कंपनी की योजना पूरे भारत में लॉन्च के लिए स्वीकृति प्राप्त करने से पहले अपने बड़े कार्यक्रम के लिए एक त्वरित स्वीकृति को लक्षित करने की है।

भार्गव ने शुक्रवार को स्पेसएक्स में स्टारलिंक भारत के निदेशक के रूप में कार्यभार संभाला। उन्होंने पूर्व में इलॉन मस्क के साथ काम किया था और उस टीम का हिस्सा थे, जिसने इलेक्ट्रॉनिक भुगतान फर्म पेपाल की स्थापना की थी।

उन्होंने कहा, “हम आशावादी हैं कि हमें आगामी कुछ माह में एक पायलट कार्यक्रम या पूरे भारत के लिए स्वीकृति मिल जाएगी।”

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, स्पेसएक्स भारत में अपनी स्टारलिंक उपग्रह इंटरनेट सेवा के बीटा संस्करण के लिए 99 डॉलर (लगभग 7,350 रुपये) की पूरी तरह से वापसी योग्य जमा राशि के लिए प्री-ऑर्डर स्वीकार कर रहा है।

इसकी वेबसाइट के अनुसार, कंपनी की उपग्रह ब्रॉडबैंड सेवाओं को 2022 में भारत में लक्षित किया जा रहा है। हालाँकि, कंपनी ने कहा कि उपलब्धता नियामक स्वीकृति के अधीन है और पहले आओ, पहले पाओ के आधार पर पूरी की जाएगी।

भार्गव ने कहा, “स्टारलिंक कई देशों में है और हमारे पास भारत से जितने अधिक प्री-ऑर्डर होंगे, हमारे लिए सरकार की स्वीकृति हासिल करना और भारत को प्राथमिकता देना उतना ही आसान होगा।”