राजनीति
लखीमपुर खीरी हिंसा में आठ की मौत, मुख्यमंत्री योगी ने शांति बनाए रखने की अपील की

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में हिंसा के बीच 8 लोगों की मौत हो गई। किसान नेताओं का आरोप है कि केंद्रीय गृहराज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा ने किसानों पर गाड़ी चढ़ा दी। इससे चार किसानों की मौत हो गई व कई घायल हो गए। घटना के बाद तिकुनिया क्षेत्र में बवाल हो गया, जिसमें भाजपा के तीन कार्यकर्ता और एक गाड़ी चालक की जान चली गई।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। उन्होंने कहा, “सरकार घटना के कारणों का पता लगाएगी और दोषियों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई करेगी। मौके पर अपर मुख्य सचिव नियुक्ति, कार्मिक एवं कृषि, एडीजी कानून-व्यवस्था, आयुक्त व आईजी उपस्थित हैं और मामले की जाँच कर रहे हैं। लोगों से अपील है कि वे अपने घरों पर रहें और किसी के बहकावे में ना आएँ। जाँच व कार्रवाई की प्रतीक्षा करें।”

अरविंद कुमार चौरसिया ने बताया, “उप-मुख्यमंत्री की अगवानी करने पहुँचे भाजपा के तीन सदस्यों और उनके चालक की भीड़ में कुछ तत्वों ने हत्या कर दी। मेरा बेटा (उप-मुख्यमंत्री के) कार्यक्रम स्थल पर मौजूद था और वहाँ हजारों लोग, प्रशासन और पुलिस के अधिकारी भी उपस्थित थे। मैं उप-मुख्यमंत्री के साथ था।”

उन्होंने आगे बताया कि दो किसानों की मौत हो गई, जब कुछ प्रदर्शनकारियों ने एक कार को पलट दिया, जिसमें भाजपा कैडर यात्रा कर रहे थे। दोनों किसान कार के नीचे दब गए और कुचल गए। इसके अतिरिक्त, लोगों की पिटाई करने वाले लोगों के समूह के कई वीडियो क्लिप सामने आए हैं।

वहीं, सपा प्रमुख अखिलेश यादव को लखनऊ में नज़रबंद कर दिया गया। उनके घर पर भारी पुलिस बल तैनात है। प्रशासन ने कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी, भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर, बसपा के सतीश चंद्र मिश्रा को लखीमपुर खीरी पहुँचने से पहले ही हिरासत में ले लिया है। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश सिंह बघेल ने लखीमपुर जाने का निर्णय लिया है। उन्होंने ट्विटर पर इसकी जानकारी दी थी।

बता दें कि लखीमपुर खीरी में उत्तर प्रदेश के उप-मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य का दौरा था। उन्हें गृहराज्य मंत्री अजय मिश्रा के पुत्र लेने जा रहे थे। इस दौरान किसानों ने उनका रास्ता रोक लिया और काले झंडे दिखाए थे।