समाचार
ईडी की शाओमी के बाद वीवो के देशभर के ठिकानों पर छापेमारी, मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) चीनी मोबाइल कंपनी शाओमी के बाद अब वीवो के ठिकानों पर छापे मार रहा है। कहा जा रहा है कि कंपनी पर मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप है, जिसकी जाँच की जा रही है।

नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, सूत्रों का कहना है कि उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, बिहार और दक्षिण के कुछ राज्यों में छापेमारी चल रही है।

चीन की स्मार्टफोन कंपनियों पर रॉयल्टी के नाम पर देश से बाहर पैसा भेजने और टैक्स चोरी करने का आरोप है। ऐसे में केंद्र सरकार ने अपनी जाँच तेज कर दी है।

इससे पहले, ईडी ने शाओमी की 5,551 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की थी। कहा जा रहा कि भारत में शाओमी, ओप्पो और वीवो खूब पैसा कमा रहे हैं लेकिन वे टैक्स नहीं देते हैं। ऐसे में सरकार ने उनके गोरखधंधों को उजागर करने हेतु एक विस्तृत जाँच शुरू की। मामले की जाँच कई जाँच एजेंसियाँ कर रही हैं।

इन कंपनियों पर गत कुछ वर्षों में नियामक फाइलिंग व अन्य दूसरी तरह की रिपोर्टिंग में अनियमितता बरतने का आरोप है। साथ ही उनकी व्यावहारिक प्रथाओं की भी जाँच की जा रही है।

चीनी मोबाइल कंपनियों पर आरोप है कि उन्होंने अपनी आमदनी छिपाई है। कर से बचने के लिए उन्होंने लाभ की जानकारी नहीं दी और भारतीय बाज़ार में घरेलू इंडस्ट्री को बर्बाद करने के लिए अपने प्रभाव का उपयोग किया। इन चीनी कंपनियों पर पुर्जे लेने और उत्पादों के वितरण में पारदर्शिता नहीं बरतने का भी आरोप है।

चीनी कंपनियों ने रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज में जो फाइलिंग की है, उसमें घाटा दिखाया गया है। उस दौरान उनकी जबरदस्त बिक्री रही और सबसे ज्यादा फोन बेचने वाली कंपनियों की सूची में वे शीर्ष पर रहीं।