समाचार
महाराष्ट्र के मंत्री अनिल परब व अन्य से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में कई स्थानों पर छापेमारी

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने गुरुवार को रत्नागिरी जिले के तटीय दापोली क्षेत्र में एक भूमि सौदे में कथित अनियमितताओं और अन्य आरोपों को लेकर राज्य के परिवहन मंत्री अनिल परब और अन्य के विरुद्ध मनी लॉन्ड्रिंग जाँच के तहत महाराष्ट्र में कई स्थानों पर छापेमारी की।

धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) की आपराधिक धाराओं के तहत एजेंसी द्वारा एक नया मामला दर्ज करने के बाद दापोली, मुंबई और पुणे में छापेमारी की कार्रवाई की जा रही है।

अनिल परब (57) महाराष्ट्र विधान परिषद् में तीन बार शिवसेना के विधायक रहे हैं और राज्य के परिवहन मंत्री हैं।

2017 में दापोली में अनिल परब द्वारा 1 करोड़ रुपये में भूमि का एक भूखंड खरीदा गया था लेकिन इसे पंजीकृत 2019 में करवाया गया था। कुछ अन्य आरोपों की भी एजेंसी द्वारा जाँच की जा रही है।

आरोप है कि बाद में भूमि को मुंबई के एक केबल ऑपरेटर सदानंद कदम को 2020 में 1.10 करोड़ रुपये में बेच दिया गया था। इसी बीच, 2017 से 2020 तक इसी भूमि पर रिजॉर्ट बनाया गया था।

आयकर विभाग की एक जाँच में पहले आरोप लगाया गया था कि रिसॉर्ट का निर्माण 2017 में शुरू हुआ था और उसके निर्माण पर 6 करोड़ रुपये से अधिक नकद खर्च किए गए थे।

पूर्व मंत्री अनिल देशमुख से जुड़े एक और मनी लॉन्ड्रिंग मामले में ईडी पहले भी परब से पूछताछ कर चुकी है।