अर्थव्यवस्था
कर सुधारों की आशंका के बीच सेंसेक्स 40,337 अंकों पर पहुँचा, निफ्टी 11,990 अंक पार

अधिक कर सुधारों और कई सार्वजनिक उपक्रमों में रणनीतिक बिक्री की सूचनाओं के बीच भारतीय बाज़ार में गुरुवार (31 अक्टूबर) को सेंसेक्स 286 अंक बढ़कर 40,337 पर पहुँच गया। इससे पहले 4 जून को सेंसेक्स ने 40,312 अंक दर्ज किए थे। इस महीने लगातार तीसरे हफ्ते सेंसेक्स में बढ़ोतरी दर्ज की गई है।

लाइव मिंट की रिपोर्ट के अनुसार, निफ्टी ने भी 11,900 अंक को पार कर लिया है, जो जून में दर्ज की गई 12,103 के अपने सर्वोच्च मूल्य से केवल 200 अंक पीछे है।

गुरुवार को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का सेंसेक्स पिछले कारोबारी सत्र के मुकाबले 183 अंक चढ़कर 40,235 पर खुला। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी भी 46 अंक चढ़कर 11,890 पर खुला।

सेंसेक्स में इस बढ़ोतरी का कारण अमेरिका के केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दरों में कटौती है। फेडरल बैंक के इस निर्णय की वजह से दुनिया भर के बाज़ार मजबूत हुए और इसका असर भारतीय बाज़ारों पर भी हुआ।

इससे पहले मंगलवार को यह बताया गया कि प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) और वित्त मंत्रालय सेंसेक्स के बढ़ोतरी के उपायों पर काम कर रही है, जिसमें लाभांश वितरण कर (डीडीटी) को हटाने पर चर्चा हुई। साथ ही दीर्घकालिक पूंजी लाभ, लघु अवधि पूंजी लाभ और सुरक्षा लेन-देन कर के मौजूदा स्लैब और इन्हें रखने की अवधि की भी समीक्षा की गई है।