अर्थव्यवस्था
आर्थिक सुधारों पर निर्मला सीतारमण- “चूकेंगे नहीं, दोनों सदनों में हमारे पास संख्याबल”

हिंदुस्तान टाइम्स  के अनुसार मंगलवार (5 नवंबर) को केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने साफ कर दिया कि आर्थिक सुधारों की श्रृंखला जारी रहने वाली है। बहुत जल्द नए आर्थिक सुधार घोषित हो सकते हैं क्योंकि अब सरकार के पास दोनों सदनों में संख्याबल है।

सीतारमण ने इशारा किया कि मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में मिलीं विफलताएँ राज्यसभा में संख्याबल की कमी की वजह से थीं।

सीतारमण ने कहा कि सरकार इस बार आर्थिक सुधार के फैसले लेने में चूकेगी नहीं। आपको बता दें कि अपने पहले कार्यकाल में मोदी सरकार ने कई सुधार लागू करने की कोशिश की थी। जैसे कि भूमि अधिग्रहण कानून जो राज्यसभा में उत्तीर्ण नहीं हो पाया था।

द इंडियन एक्सप्रेस के कार्यक्रम अड्डा के दौरान सीतारमण ने कहा, “मुझे पूरा यकीन है कि इस बार हम प्रतिबद्धता दिखाएँगे ताकि सुधार जल्दी हो और यहीं पर प्रधानमंत्री मोदी को 2019 में मिला विशाल जनादेश हमारे काम आएगा।”

“हम उन सुधारों को आगे बढ़ाएँगे जो हम पिछली सरकार में नहीं कर पाए और हम इस बार उन्हें ज़रूर असर में लाएँगे।”, सीतारमण ने कहा।

काफी लंबे समय से विश्लेषकों एवं विशेषज्ञों की सरकार से अति आवश्यक मांग थी कि आर्थिक सुधारों को लेकर सरकार जल्द कोई कदम उठाए खासकर जमीन और मजदूरों से जुड़े सुधारों पर ताकि अर्थवयवस्था को जल्द से जल्द पटरी पर लाया जा सके।

जनमत सर्वेक्षणों की मानें तो लुढ़कती अर्थ्यवस्था, बढ़ती बेरोजगारी और बढ़ती कृषि समस्या के कारण भाजपा को गत विधान सभा चुनावों में झटका लगा था।

अमेरिका-चीन के झगड़े के कारण कई अमेरिकी कंपनियाँ बांग्लादेश और वियतनाम जा रही हैं। इसपर सीतारमण ने कहा कि हमारे पास प्रमुख कंपनियों की सूची है जो भारत आ सकती हैं।