अर्थव्यवस्था
यदि मोदी पुनः नहीं चुने जाते तो 75 के नीचे जा सकता है रुपया- विशेषज्ञों की चेतावनी

विशेषज्ञों का दावा है कि यदि आगामी लोकसभा चुनावों में प्रधानमंत्री मोदी पुनः निर्वाचित नहीं होते हैं तो रुपया लुढ़केगा और यहाँ तक कि 75 से नीचे भी जा सकता है, बिज़नेस स्टैंडर्ड  ने रिपोर्ट किया।

“डॉलर के विरुद्ध रुपया 75 से भी कम हो सकता है यदि मोदी दूसरे कार्यकाल में वापस नहीं आते हैं तो।”, सिंगापुर के अर्थशास्त्री प्रकाश सकपाल ने कहा।

अगले कुछ महीनों के लिए रुपये से इंडोनेशियाई मुद्रा की तुलना करते हुए टॉरस वेल्थ एडवाइज़र्स् प्राइवेट लिमिटेड के कार्यकारी निदेशक रैनर माइकल प्रेस ने कहा, “रुपये (भारत) की तुलना में रुपइया (इंडोनेशिया) खतरे से बेहतर संरक्षण प्रदान करता है। इंडोनेशिया में स्थिरता अधिक है। यदि मोदी पुनः नहीं चुने जाते हैं तो कुछ लोग इसे नकारात्मक समझेंगे जिससे रुपया अस्थिर हो जाएगा।”

भारत की तरह ही इंडोनेशिया में भी अप्रैल में चुनाव होंगे और ओपिनियन पोल्स दर्शाते हैं कि सत्ताधारी इंडोनेशियाई राष्ट्रपति जोको विडोडो पुनः चुने जाएँगे लेकिन भारत में नरेंद्र मोदी की सत्ता को विपक्ष से अधिक खतरा है।

राजनीतिक स्थिरता व्यापार के लिए बेहतर

ध्यान देने योग्य बात यह है कि राजनीतिक स्थिरता और निरंतरता फॉरेक्स बाज़ार में मुद्रा के प्रदर्शन को सुनिश्चित करता है। एनडीए सरकार द्वारा बाज़ार समर्थक नीतियों के जारी रहने से भारत में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) बढ़ेगा और रुपये की अस्थिरता घटेगी।