समाचार
पूर्वी रेलवे ने 2,848 किलोमीटर नेटवर्क का 100 प्रतिशत विद्युतीकरण कार्य पूरा किया

पूर्वी रेलवे ने हंसडीहा-गोड्डा खंड में काम पूरा होने के साथ अपने 2,848 किलोमीटर नेटवर्क का 100 प्रतिशत विद्युतीकरण कार्य पूरा कर लिया है।

हंसडीहा-गोड्डा खंड में 41 किलोमीटर ट्रैक और 32 रूट किलोमीटर हैं।

रेलवे सुरक्षा आयुक्त (सीआरएस) द्वारा गुरुवार (26 मई) को 103 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से गति परीक्षण पूरा किया गया था, जबकि इस खंड की खंड स्पीड 90 किलोमीटर प्रति घंटा है।

द स्टेट्समैन की रिपोर्ट के अनुसार, पूर्व रेलवे का कुल रूट 2,848 किलोमीटर है, जो हावड़ा, सियालदह, आसनसोल और मालदा डिवीजनों में फैला हुआ है। इसमें हावड़ा डिवीजन में 889 रूट किमी, सियालदह में 719 रूट किमी, आसनसोल में 690 रूट किमी और मालदा में 550 रूट किमी सम्मिलित है।

कोलकाता स्थित जोनल रेलवे मुख्यालय के प्रवक्ता एकलव्य चक्रवर्ती ने कहा, “रेलवे सुरक्षा आयुक्त (सीआरएस) द्वारा हंसडीहा-गोड्डा खंड के पूर्ण निरीक्षण के साथ ही पूर्वी रेलवे के पूरे 2,848 किलोमीटर लंबे नेटवर्क का विद्युतीकरण कर लिया गया है।”

उन्होंने कहा कि कुल विद्युतीकरण से कार्बन उत्सर्जन में उल्लेखनीय कमी आएगी और भारतीय रेलवे को 2030 तक देश के रेलवे नेटवर्क को कार्बन तटस्थ (सामान्य) बनाने के अपने लक्ष्य को प्राप्त करने में सहायता मिलेगी।