समाचार
डीआरडीओ ने मैन पोर्टेबल एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल का किया सफल परीक्षण

रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) ने बुधवार (11 जनवरी) को मैन पोर्टेबल एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल (एमपीएटीजीएम) के अंतिम वितरण विन्यास का सफलतापूर्वक परीक्षण किया।

स्वदेश में विकसित टैंक रोधी मिसाइल कम वजन वाली है, जो दागो और भूल जाओ की तकनीक पर आधारित है। इसे थर्मल दृष्टि से एकीकृत मानव पोर्टेबल लांचर से लॉन्च किया गया।

रक्षा मंत्रालय ने एक विज्ञप्ति में कहा कि मिसाइल ने निर्धारित लक्ष्य को निशाना बनाया और उसे नष्ट कर दिया। अंतिम प्रभाव घटना को कैमरे में कैद किया गया और परीक्षण ने न्यूनतम सीमा को सफलतापूर्वक सत्यापित किया।

मंत्रालय ने कहा, “वर्तमान परीक्षण न्यूनतम सीमा हेतु प्रदर्शन को साबित करने के लिए था। अभियान के सभी उद्देश्यों को पूरा किया गया। मिसाइल को उन्नत एवियोनिक्स के साथ अत्याधुनिक लघु इन्फ्रारेड इमेजिंग तकनीक के साथ लैस किया गया है।”

मंत्रालय के अनुसार, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने एंटी टैंक मिसाइल के लगातार प्रदर्शन के लिए डीआरडीओ को बधाई दी और कहा कि विकास में उन्नत प्रौद्योगिकी आधारित रक्षा प्रणाली आत्मानिर्भर भारत की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।