समाचार
श्रीलंका में बिक्री हेतु डीज़ल नहीं, देश को बड़े विद्युत संकट का करना पड़ रहा है सामना

पूरे श्रीलंका में गुरुवार को डीज़ल बिक्री के लिए उपलब्ध नहीं था क्योंकि देश में रिकॉर्ड लंबे समय तक विद्युत संकट जारी है।

एएफपी की रिपोर्ट के अनुसार, पेट्रोल हालाँकि सीमित आपूर्ति में उपलब्ध है लेकिन व्यापक रूप से ईंधन की कमी के कारण मोटर चालकों को लंबी कतारों में अपनी कारों को छोड़ने के लिए विवश होना पड़ रहा है।

एएफपी ने श्रीलंका के परिवहन मंत्री दिलुम अमुनुगामा के हवाले से कहा, “हम गैरेज में मरम्मत के लिए गईं बसों से ईंधन निकाल रहे हैं और उस डीज़ल का उपयोग सेवा योग्य वाहनों को संचालित करने के लिए कर रहे हैं।”

निजी बस संचालकों ने कहा कि उनके पास पहले से ही तेल खत्म हो गया है और शनिवार से निरंतर सेवाएँ प्रदान करने के लिए भी संघर्ष करना होगा।

इस बीच, सीलोन विद्युत बोर्ड के अध्यक्ष एमएमसी फर्डिनेंडो ने बताया कि गुरुवार से 13 घंटे विद्युत कटौती होगी क्योंकि देश में जनरेटर के लिए डीज़ल नहीं है।

फर्डिनेंडो के अनुसार, द्वीप राष्ट्र में एक तिहाई से अधिक विद्युत की मांग को पूरा करने वाले हाइड्रो जलाशय भी खतरनाक रूप से निचले स्तर पर पहुँच गए हैं।

आर्थिक संकट के परिणामस्वरूप श्रीलंका में सरकारी अस्पतालों ने आवश्यक जीवन रक्षक दवाओं की कमी के कारण सर्जरी करना बंद कर दिया है।

राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे के नेतृत्व वाली सरकार अंतर-राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) से राहत की अपेक्षा कर रही है और उसने स्थिति से निपटने के लिए भारत और चीन से अतिरिक्त ऋण भी मांगा है।