समाचार
यूक्रेन संकट को दूर करने का सबसे अच्छा तरीका संवाद व कूटनीति है- भारत

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने गुरुवार रात अपने रूसी समकक्ष सर्गेई लावरोव और अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन के साथ यूक्रेन संकट को लेकर अलग-अलग फोन पर वार्ता की।

रूस के यूक्रेन पर हमले की निंदा के बाद भारत तनाव को कम करने के समग्र वैश्विक प्रयासों के हिस्से के रूप में सभी संबंधित पक्षों के संपर्क में है।

विदेश मंत्री ने ट्वीट किया, “यूक्रेन के घटनाक्रम पर अभी रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव से वार्ता की है। इसमें अनुरोध किया गया कि मामले को हल करने के लिए संवाद और कूटनीति सबसे अच्छा तरीका है।”

माना जाता है कि एस जयशंकर ने लावरोव को यूक्रेन से लगभग 16,000 भारतीयों को सुरक्षित निकालने के लिए भारत के महत्व से अवगत करवाया था।

एक अन्य ट्वीट में एस जयशंकर ने कहा, “एंटनी ब्लिंकन से यूक्रेन में चल रहे घटनाक्रम और इसके प्रभावों पर चर्चा हुई।” अमेरिकी विदेश विभाग ने कहा कि ब्लिंकन ने यूक्रेन पर रूस के पूर्व नियोजित, अकारण और अनुचित हमले पर चर्चा करने के लिए जयशंकर से बात की।

जयशंकर ने यूरोपीय संघ के विदेश मामलों के उच्च प्रतिनिधि जोसेप बोरेल और ब्रिटेन के विदेश सचिव लिज़ ट्रस से भी यूक्रेन में उभरती स्थिति पर बात की।

विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने गुरुवार शाम प्रेसवार्ता में कहा कि भारत अमेरिका, रूस और यूरोपीय संघ सहित सभी संबंधितों के साथ निकट संपर्क में है क्योंकि इस क्षेत्र में उसकी भागीदारी है।

उन्होंने कहा, “हमने यह सुनिश्चित किया है कि सभी देशों को एक-दूसरे से वार्ता करने की आवश्यकता है। देशों को सम्मिलित करने की आवश्यकता है और यदि ऐसा कुछ है, जो हम उस जुड़ाव को सुविधाजनक बनाने के लिए कर सकते हैं तो हमें ऐसा करने में खुशी होगी।”