समाचार
योगी सरकार के नेतृत्व में कोरोना के बावजूद दो वर्ष के भीतर कानपुर मेट्रो का कार्य पूर्ण

एक उल्लेखनीय उपलब्धि में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली उत्तर प्रदेश सरकार परियोजना कार्यों के शुरू होने के दो वर्षों के भीतर ही कानपुर मेट्रो परियोजना को ट्रायल रन चरण में ले आई।

2020 के मार्च-सितंबर और 2021 के अप्रैल-जून में कोविड-19 की बाधाओं के दो दौर के बावजूद यह कार्य दो वर्ष से भी कम समय में पूरा किया गया।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार (10 नवंबर) को कानपुर मेट्रो के ट्रायल रन को हरी झंडी दिखाई और कहा कि शहर के लोगों को शीघ्र ही सबसे अच्छी परिवहन सुविधा मिलेगी।

आगामी 6 सप्ताह में सुरक्षा परीक्षण और प्रमाणन के बाद 9 स्टेशनों के साथ आईआईटी गेट से मोती झील तक 9 किलोमीटर के गलियारे को दिसंबर में चालू कर दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने 15 नवंबर 2019 को 9 किलोमीटर लंबे प्राथमिकता वाले गलियारे का शिलान्यास किया था। परियोजना के अब तक के तेज़ी से कार्यान्वयन ने ठेकेदारों और सिविल इंजीनियरों को अधिकारियों से खूब प्रशंसा दिलवाई।

उत्तर प्रदेश में 2017 में गाजियाबाद और नोएडा में केवल 15 किमी मेट्रो रेल का संचालन हुआ था। पाँच वर्ष से भी कम समय में लखनऊ और ग्रेटर नोएडा के साथ चार शहरों में मेट्रो लाइनों का विस्तार 82 किमी तक कर दिया गया।

इस उपलब्धि के लिए राज्य सरकार की सराहना करते हुए केंद्रीय आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय के सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा ने कहा कि आगरा, मेरठ सहित अन्य 7 शहरों में मेट्रो-क्षेत्रीय रैपिड ट्रांसपोर्ट (आरआरटी) के अन्य 131 किलोमीटर का काम सक्रिय रूप से चल रहा है।