समाचार
“निश्चित रूप से जीएसटी संरचना त्रि-स्तरीय होगी”- मुख्य आर्थिक सलाहकार के सुब्रमण्यम

वित्त मंत्रालय के मुख्य आर्थिक सलाहकार (सीईए) कृष्णमूर्ति सुब्रमण्यम ने गुरुवार (29 जुलाई) को कहा कि वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) संरचना को तीन स्तर में युक्तिसंगत बनाना सरकार की कार्यसूची में है और यह निश्चित रूप से होने वाला है।

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, उद्योग मंडल एसोचैम की ओर से आयोजित कार्यक्रम में जीएसटी संरचना युक्तिकरण के प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा, “तीन दर संरचना निश्चित रूप से महत्वपूर्ण है। यहाँ तक कि बदलने हुए क्रम की शुल्क संरचना भी ठीक करना समान रूप से महत्वपूर्ण है। सरकार निश्चित रूप से इस मामले पर ध्यान दे रही है।”

सुब्रमण्यम ने कहा, “मूल योजना तीन-दर संरचना की थी लेकिन मुझे लगता है कि हमें जिस चीज़ के बारे में बहुत जागरूक होना है, वह यह कि कई बार नीति निर्माण के साथ आप नहीं चाहते कि असलियत में उत्कृष्टता दुश्मन बन जाए।”

एनके सिंह की अध्यक्षता में 15वें वित्त आयोग ने अपनी रिपोर्ट में जीएसटी संरचना को युक्तिसंगत बनाने का मामला रखा है।

जीएसटी को 2017 में लागू किया गया था। इसने कई राज्यों और केंद्रीय अप्रत्यक्ष करों को एक में समाहित कर दिया था। वर्तमान में इसकी पाँच दरें हैं, जिसमें 0.25 प्रतिशत, 5 प्रतिशत, 12 प्रतिशत, 18 प्रतिशत और 28 प्रतिशत कीमती चीज़ों पर उपकर। हालाँकि, अधिकांश सामान्य उपयोग की वस्तुओं को जीएसटी से छूट दी गई है।