रक्षा
“हमें राफेल विमान की तुरंत आवश्यकता है, न्यायालाय का निर्णय सही”- चीफ धनोआ

बुधवार (19 दिसंबर) को एयर चीफ मार्शल बीएस धनोआ ने कहा कि राफेल सौदा भारत के पक्ष में लिया गया एक बड़ा कदम है तथा उन्होंने इस सौदे से संबंधित याचिका पर दिए गए सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय को उचित बताया, प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया  ने रिपोर्ट किया।

एयर चीफ मार्शल बीएस धनोआ ने राफेल विमान सौदे पर सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय पर सहमति जताते हुए कहा कि भारतीय वायुसेना को लड़ाकू विमानों की सख़्त आवश्यकता है। उन्होंने कहा, “कौन कहता है कि हमें राफेल की आवश्यकता नहीं है? सरकार कह रही है कि हमें आवश्यकता है, हम कह रहे हैं कि हमें आवश्यकता है, सर्वोच्च न्यायालय ने उचित निर्णय दिया है। हमारे विरोधियों ने अपनी तकनीक तथा उपकरणों को उन्नत बना लिया है और हमें देर हो चुकी है। राफेल एक बड़ा हथियार है।”

उन्होंने रक्षा उपकरणों की खरीदी में राजनीतिक हस्तक्षेप पर चिंता जताई और कहा कि इस वजह से पहले भी सेना को बोफोर्स मिलने में देरी झेलनी पड़ी है।

जोधपुर में धनोआ ने पत्रकारों को कहा, “मैं निर्णय पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दूँगा लेकिन सर्वोच्च न्यायालय ने उचित निर्णय लिया है। अदालत ने भी कहा है कि विमानों की सख़्त आवश्यकता है।” उन्होंने कहा, “सामरिक परिदृश्य के अनुसार हमें इसकी आवश्यकता है।”

उनकी यह प्रतिक्रिया भारत के रूस के साथ सैन्य अभ्यास के दौरान तथा सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय के कुछ दिनों बाद आई है। गौरतलब है कि सर्वोच्च न्यायालय ने मिलियन डॉलर राशि वाले 36 राफेल विमानों के सौदे से संबंधित याचिका खारिज कर दी थी।

उन्होंने सरकार के निर्णय का समर्थन करते हुए कहा कि कीमतों का खुलासा कर देने से विरोधियों को विमानों की क्षमता का पता लग जाएगा।

उन्होंने कहा कि करदाताओं को यह जानने का अधिकार है कि उनका पैसा कहाँ जा रहा है तथा उचित व्यय सुनिश्चित करने के लिए देश के नियंत्रक तथा महालेखा परीक्षक हैं।

लड़ाकू विमानों की संख्या में कमी की बात पर, एयर चीफ मार्शल धनोआ ने कहा कि भारतीय वायुसेना अपने संसाधनों का उपयोग इष्टतम तरीके से कर रही है।