रक्षा
क्या एनएसजी के पास होगा ‘वायु बल’? संसदीय समिति की गृह मंत्रालय को सलाह

गृह मामलों के लिए बनी 215वीं संसदीय स्थायी समिति ने बुधवार को राज्य सभा में प्रस्ताव रखा कि गृह मंत्रालय, राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) को हवाई विमान प्रदान करे, द हिंदू  की रिपोर्ट में बताया गया। यह समिति पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम की अध्यक्षता में बनी थी।

समिति ने कहा कि एनएसजी के पास दो एमआई 17 हेलीकॉप्टर थे जो कि अभी अनुपयोगी हो चुके हैं। एक हेलीकॉप्टर 2002 में एक्सिडेंट में क्षतिग्रस्त हो गया था वहीं दूसरा आवश्यक पुर्जों की कमी के कारण अनुपयोगी है।

26/11 के हमले के वक़्त एनएसजी का समय पर न पहुँच पाने का एक मुख्य कारण विमानों की कमी रही थी। रिपोर्ट में कहा गया है कि एनएसजी ने अभी तक एक विमान को आदेशित करने की क्षमता को नहीं परखा है और इसी कारण वह सैन्य परिवर्तन तथा प्रतिक्रिया के समय से अनभिज्ञ है।

उल्लेखनीय है कि इंदिरा गांधी की हत्या के बाद सन् 1986 में एनएसजी स्थापित की गई थी। इस सैन्य दल को शहरों आतंकी गतिविधियों तथा हाईजैक से निपटने के लिए तैयार किया जाता है। इसमें सीधी भर्ती का प्रावधान नहीं होता, इसके जवानों की नियुक्ति सेना से तथा केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल के जवानों में से की जाती है।